हाईवे और रेलमार्ग डूब जाता, हो सकती थी बड़ी तबाही! जानें कैसे रूक गया ये बड़ा हादसा

0
23


उत्‍तर प्रदेश के हरदोई में शारदा नहर विभाग के अधिकारियों की सक्रियता से एक बड़ा हादसा होने से टल गया. दरअसल, शारदा नहर हरदोई ब्रांच में समुदाय विशेष के लोग फावड़े से नहर को काट रहे थे. तभी निरीक्षण के लिए निकले सिंचाई विभाग के अफसरों ने एक शख्स को नहर काटते मौके पर पकड़ लिया, जबकि उसके 5 साथी बाइक छोड़कर फरार हो गए. पकड़े गए शख्स को पुलिस की सुपुर्दगी में देकर सिंचाई विभाग के अफसरों ने 6 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है. अफसरों के मुताबिक, 3 मीटर तक यह लोग नहर काट चुके थे, बाकी नहर भी अगर कट जाती तो इलाके में बाढ़ जैसे हालात होते, दर्जनों गांव जलमग्न हो जाते, नेशनल हाईवे और रेलवे लाइन भी बाधित होती, जिससे बड़े पैमाने जन और धन हानि हो सकती थी. इस मामले में पुलिस फरार आरोपियों की तलाश में जुटी है.

हरदोई खंड शारदा नहर क्षेत्र के अंतर्गत लखीमपुर जिले के उचौलिया गांव के पास नहर का निरीक्षण करने अवर अभियंता सत्येंद्र वर्मा अपनी टीम के साथ 13 जुलाई को निकले थे. इस दौरान हरदोई शाखा की नहर पटरी को 6 लोग काट रहे थे, उनके पहुंचने पर 5 लोग बाइक छोड़कर फरार हो गए जबकि एक को मौके पर पकड़ लिया गया. जिसने अपना नाम जीशान अली बताया और मौके पर पुलिस को बुलाया गया, जिसके बाद जीशान अली ने बताया कि उसके साथी बनकागांव के रहने वाले रिक्शान शाह, सिकंदर शाह, वसीम खान, सरदार अली, मुदस्सिर अली नहर को सिंचाई करने के लिए काट रहे थे. जीशान अली को पुलिस के सुपुर्द करते हुए अवर अभियंता सत्येंद्र वर्मा ने सभी के खिलाफ लखीमपुर खीरी जिले के पसिगवां थाने में शुक्रवार को मुकदमा दर्ज कराया है.

इस मामले की जानकारी देते हुए शारदा नहर विभाग के अधिशासी अभियंता अखिलेश गौतम ने बताया कि पकड़े गए अभियुक्त शारदा नहर पटरी को काटने का प्रयास कर रहे थे, जो रात्रि गश्त के दौरान पकड़ में आए जिनमें एक को पकड़ लिया गया और बाकी फरार हो गए. सभी अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया है. अखिलेश गौतम के मुताबिक, अपने खेत में सिंचाई करने के लिए यह लोग नहर काट रहे थे. करीब 3 मीटर तक इन्होंने नहर काट भी दी थी. अगर पूरी तरह यह नहर काटने में कामयाब हो जाते और मौके पर नहर विभाग के अफसर ना पहुंचते तो बड़ा हादसा हो सकता था.

अखिलेश गौतम के मुताबिक, आसपास के दर्जनों गांवों में बाढ़ जैसे हालात हो जाते. फसल जलमग्न हो जाती और लोगों का जीना मुहाल हो जाता. यही नहीं नेशनल हाईवे और शाहजहांपुर सीतापुर रेलवे लाइन पर भी पानी भर जाता जिससे एक बड़ा हादसा हो सकता था, जिसमें बड़ी जन और धन हानि हो सकती थी. नहर विभाग के अफसरों की सक्रियता के चलते इस हादसे को टाल दिया गया. संबंधित के खिलाफ इस मामले में कड़ी कार्रवाई कराई जा रही है.

Tags: Hardoi News, UP news, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here