10 दिन बाद भी संक्रमण फैला सकते हैं कोरोना पॉजिटिव, यूके में हुई स्‍टडी में हुआ खुलासा

0
10


नई दिल्‍ली. जब कोरोना पॉजिटिव (corona positive) लोगों के लिए आइसोलेशन समय में कटौती की जा रही है, ऐसे समय ब्रिटेन में हुई एक स्‍टडी (New Study) का खुलासा हैरान कर देने वाला है. स्‍टडी में कहा गया है कि कोरोना संक्रमित कुछ लोग 10 दिनों के बाद भी वायरस को दूसरों तक पहुंचाने में सक्षम होते हैं. यह अध्‍ययन महामारी (pandemic) के शुरुआती दिनों में किया गया था. यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर (University of Exeter) के शोध के अनुसार करीब 13 प्रतिशत पॉजिटिव मरीज ऐसे थे जो अन्‍य लोगों में कोरोना संक्रमण फैला सकते थे.

यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर (University of Exeter) में एक ऐसा परीक्षण किया जिससे यह पता लगाया जा सके कि क्‍या वायरस पहले से संक्रमित होने वाले लोगों में एक्टिव रहता है या नहीं. इसमें पाया गया कि 176 लोगों में से करीब 22-23 लोगों में वायरस एक्टिव था और उसका स्तर इतना अधिक था कि वह 10 दिन बाद भी अन्‍य लोगों को संक्रमित कर सकता था. वहीं कुछ लोगों ने इन स्तरों को 68 दिनों तक बनाए रखा.

ये भी पढ़ें :  देखें भारतीय सेना की कॉम्बेट यूनीफॉर्म की पहली झलक, सामने आया VIDEO, जानें इसकी खास‍ियत

ये भी पढ़ें :  BJP को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की गई, लेकिन जनता ने हमें समझा और स्वीकारा: केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव

लेखकों का मानना है कि इस नए टेस्‍ट को उन दिशा निर्देशों में लागू किया जाना चाहिए जहां लोग असुरक्षित हैं, ताकि कोविड -19 के प्रसार को रोका जा सके. पारंपरिक पीसीआर टेस्‍ट (RT PCR Test), वायरल अंशों की उपस्थिति जानने के लिए होते हैं जबकि वे बता सकते हैं कि क्या किसी को हाल ही में वायरस संक्रमण हुआ है या नहीं. वे यह पता नहीं लगा सकते हैं कि क्या यह वायरस अभी भी सक्रिय है, और व्यक्ति संक्रामक है. नवीनतम अध्ययन में इस्तेमाल किया गया परीक्षण हालांकि सकारात्मक परिणाम तभी देता है जब वायरस सक्रिय होता है और संभावित रूप से आगे संचरण में सक्षम होता है.

स्‍टडी के प्रमुख लेखक और यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर मेडिकल स्कूल के मर्लिन डेविस ने कहा, ‘कुछ मामले में, जैसे कि बीमारी के बाद घरों में देखभाल करने वाले लोग, दस दिनों के बाद भी संक्रामक बने रहने वाले लोग, गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकते हैं. इससे बचने के लिए यह जरूरी है कि लोगों का टेस्‍ट हो और यह पता किया जाए कि अब वे संक्रामक नहीं हैं. उन्‍होंने कहा कि अब हम इसकी जांच के लिए बड़े परीक्षण करना चाहते हैं.

Tags: Corona positive, New Study, RT PCR Test



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here