38 साल बाद बांग्लादेश के 63 विस्थापित हिंदू परिवारों का पुनर्वास, CM योगी ने जमीन, घर और क्या दी सौगातें?

0
50


लखनऊ. बांग्लादेश से 50 साल पहले आए निर्वासित हिंदू परिवारों को अब उत्तर प्रदेश में खेती की ज़मीन और मकान के लिए सौगात मिली है. लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन परिवारों को पुनर्वास प्रमाण पत्र बांटे और कहा कि पहले की सरकारें इन हिंदू रिफ्यूजियों को लेकर संवेदनहीन बनी रहीं, लेकिन हमने मानवता की मिसाल पेश कर इन्हें पुनर्वसित करने का काम किया. योगी आदित्यनाथ ने इन परिवारों को पट्टे बांटते हुए यह भी कहा कि इन्हें सरकार की अन्य योजनाओं का लाभ भी दिया जाएगा.

योगी सरकार ने किस तरह इन परिवारों को सौगात दी है, इससे पहले आपको बता दें कि ये उन्हीं 407 हिंदू परिवारों में से हैं, जो 1970 में बांग्लादेश से विस्थापित होकर आए थे. इनमें से 332 परिवारों को देश के विभिन्न हिस्सों में रख गया था. ​हस्तिनापुर की मदन सूत मिल्स में इन्हें काम दिलवाकर इनके पुनर्वास की कोशिश की गई थी, लेकिन 1984 में मिल बंद हो गई. इसके बाद से मेरठ में 63 परिवार 38 सालों से पुनर्वास की प्रतीक्षा कर रहे थे. योगी ने कहा कि इन विस्थापित हिंदू परिवारों का दर्द पिछली सरकारों ने नहीं समझा.

पांच साल बाद क्यों ली गई सुध?
योगी सरकार तो पांच साल से है, लेकिन दूसरे कार्यकाल में ही इन परिवारों की सुध क्यों ली गई? जवाब में सरकार का कहना है कि प्रक्रिया 2017 में ही शुरू कर दी गई थी. ‘2017 में हमारे सामने कई चुनौतियां थीं. मुसहर, वनटांगिया कोल, भील, थारू की स्थिति बदहाल थी. हमने मैपिंग करके ऐसे परिवारों को 1.08 लाख मुख्यमंत्री आवास दिए. 2017 में सरकार बनने के बाद 38 वनटांगिया गांवों को विकास से जोड़ा. आज़ादी के बाद पहली बार उन्हें वोट देने का अधिकार मिला.’

योगी ने कहा, ‘अब इन ​विस्थापित हिंदू परिवारों के पुनर्वास के लिए एक कॉलोनी के रूप में विकसित करने के कार्य करेंगे. जहां इनके रहने, जीवन जीने की सर्वसुलभता हो. वहां महिलाओं के रोज़गार के लिए भी अवसर बनाए जाएंगे. स्मार्ट विलेज के रूप में विकसित करने का हमारा प्रयास होगा.’

हिंदू परिवारों का कैसे होगा पुनर्वास?
पूर्वी पाकिस्तान के विस्थापितों को ज़मीन देने के लिए यूपी सरकार की तरफ़ से कैबिनेट बैठक में जो फैसला लिया गया था, उसके अनुसार इन परिवारों को इस तरह सौगात मिलेगी :

— 63 परिवारों को कानपुर के रसूलाबाद में बसाया जाएगा. हर परिवार को 2 एकड़ भूमि, मुख्यमंत्री आवास, शौचालय मिलेगा.
— दो एकड़ भूमि, 200 वर्गमीटर आवासीय पट्टा, मुख्यमंत्री आवास व शौचालय आवंटित होगा.
— आवास निर्माण हेतु प्रति परिवार 1.20 लाख रुपए की राशि दी जाएगी.

गौरतलब है कि कानपुर देहात छेत्र में इनके पुनर्वसन के लिए सरकार की तरफ़ से ज़मीन चयनित की गई है. योगी ने कहा, ‘जिन लोगों को उस देश में जगह नहीं मिल पाई, जहां के वो थे, भारत ने उन लोगों के लिए दोनों हाथ फैलाकर उन्हें जगह दी, ये भारत की मानवता है.’

आपके शहर से (लखनऊ)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Hindu, UP news, Yogi Adtiyanath



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here