Agra: रामबाबू पराठे का स्‍वाद बना देता है दीवाना, संसद से लंदन तक बिखेर चुका है आगरा का जायका

0
23


हाइलाइट्स

1930 में आगरा के रामबाबू खंडेलवाल ने पराठे की शुरुआत की थी.
एक आने से 180 रुपये की थाली तक का सफर तय किया.
पंडित जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी ने भी रामबाबू के पराठे का स्वाद चखा है.
अभिषेक बच्‍चन-ऐश्वर्या राय और सोनम कपूर की शादी में रामबाबू पराठे ने जगह बनाई थी.

रिपोर्ट- हरि कांत शर्मा

आगरा. जब भी आगरा के जायके और खानपान की बात होती है, तो राम बाबू के पराठे का नाम लिए बगैर बात पूरी नहीं हो सकती. राम बाबू पराठे का स्वाद आगरा ही नहीं बल्कि देश के लोगों की जुबान पर भी चढ़ा हुआ है. पिछले 92 सालों में रामबाबू के पराठे ने आगरा से संसद और संसद से लंदन तक का सफर तय किया है. जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी ने भी राम बाबू के पराठे का स्वाद चखा है. इतना ही नहीं इस पराठे के स्वाद का आनंद लंदन के लोग भी ले चुके हैं. इसके अलावा शायद ही ऐसा कोई नेता होगा जो आगरा आया हो और रामबाबू के पराठे का स्वाद न चखा हो.

1930 में श्री रामबाबू खंडेलवाल ने पराठे की शुरुआत की थी. उनके साथ उनके छोटे भाई हरि शंकर खंडेलवाल भी कारोबार में सहयोगी थे. अब उनके जाने के बाद उनकी तीसरी पीढ़ी कमल गुप्ता इस कारोबार को आगे बढ़ा रही है. कमल गुप्ता बताते हैं कि एक आने की कीमत से शुरू हुआ रामबाबू का पराठा संसद की गोल्डन जुबली तक का सफर तय कर चुका है. भारतीय संसद में लगने वाली गोल्डन जुबली में भी आगरा के पराठे ने अपनी जगह बनाई थी. इसके अलावा एक कार्यक्रम के दौरान लंदन से भी भारतीय मूल के रहने वाले लक्ष्मी मित्तल (स्टील किंग) की डिमांड पर रामबाबू के पराठे ने लंदन में अपने स्वाद का जलवा बिखेरा था. इसके साथ कमल ने बताया कि जब 1930 में उनके ताऊजी रामबाबू खंडेलवाल ने इस पराठे की शुरुआत की थी, तो इसकी कीमत महज एक आने हुआ करती थी, लेकिन अब 180 रुपये की थाली है.

कई मशहूर लोगों की शादी में भी हो चुका है शुमार
रामबाबू के पराठे की प्रसिद्धि का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि इनका पराठा कई बॉलीवुड हस्तियों की शादी का हिस्‍सा बन चुका है. इसमें अभिषेक बच्‍चन-ऐश्वर्या राय और सोनम कपूर की शादी शामिल है. वहीं, हाल ही में यह क्रिकेटर दीपक चाहर की शादी में भी मेहमानों का जायका बढ़ा चुका है.

40 किलो के तवे पर तैयार किया जाता है पराठा
हरिशंकर गुप्ता बताते हैं कि इस पराठे को 40 किलो के तवे पर धीमी आंच पर पकाया जाता है. इसी वजह से पराठा जलता नहीं है और बेहद स्वादिष्ट बनता है. वर्तमान में आलू, पनीर, प्याज, मटर, मेथी, मिक्स वेजिटेबल समेत आधा दर्जन से ज्यादा पराठे लोगों की पहली पसंद हैं. आज भी पराठा पूरी तरह से शुद्ध देशी घी से तैयार किया जाता है. यही वजह है कि अब तक इस पराठे का स्वाद अभी तक लोगों की जुबान पर चढ़ा हुआ है.

क्वालिटी है बरकरार
पराठे की क्‍वालिटी से कोई समझौता नहीं किया जाता है. पराठे के साथ तीन सब्जी, अचार , पापड़ रायता आदि दिया जाता है. पराठे की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए आज भी आपको दुकान पर जाकर ही रामबाबू के पराठे का लुफ्त उठाना होगा. पराठा ठंडा होने के बाद उसके स्वाद में बदलाव आ सकता है. इसी वजह से ऑनलाइन घर बैठे पराठा ऑर्डर करने की सुविधा अभी नहीं दी गई है.

पराठे की सबसे पुरानी दुकान है बेलनगंज
श्री राम बाबू पराठा भंडार की सबसे पुरानी दुकान बेलनगंज में है. इसके अलावा शहर में सिकंदरा और फतेहाबाद रोड में भी ब्रांच है. अन्य शहरों में वृंदावन, जयपुर, मानेसर, गुड़गांव आदि में राम बाबू पराठा भंडार की फ्रेंचाइजी खुली हुई हैं.

Tags: Agra news, Atal Bihari Vajpayee, Pandit Jawaharlal Nehru, Street Food



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here