Agra: 700 साल पुराना है बल्केश्वर मंदिर, सावन में भक्‍तों को मिलता है महादेव का खास आशीर्वाद

0
22


रिपोर्ट: हरीकांत शर्मा

आगरा. ताज नगरी आगरा को भगवान महादेव का विशेष आशीर्वाद प्राप्त है. आगरा के चारों कोने पर भगवान महादेव के 4 प्राचीनतम मंदिर स्थित हैं, जिनमें से एक बल्केश्वर मंदिर है. बल्केश्वर मंदिर (Balkeshwar Temple) के इतिहास के बारे में कहा जाता है कि यह मंदिर 700 साल पुराना है. उस वक्‍त यमुना नदी के किनारे बिल्व पत्र के घने जंगल हुआ करते थे. कटाई के दौरान उन जंगलों में से भगवान महादेव की पिंडी निकली थी और उसी के नाम पर इस मंदिर का नाम बल्केश्वर पड़ा है.

सावन के महीने में बल्केश्वर महादेव मंदिर पर भव्य मेला लगाया जाता है. पूरे महीने यहां पर भक्तों की भारी भीड़ होती है. सुबह से ही शिवालयों में शिव भक्तों की भीड़ उमड़ने लगती है. सावन में बलकेश्वर मंदिर को दुल्हन की तरह सजाया जाता है और आरती में शहर के तमाम शिवभक्त शामिल होते हैं.

शिव भक्तों की होती है ,हर मनोकामना पूरी
ऐसी मान्यता है कि भगवान बल्केश्वर महादेव मंदिर में आस्था के साथ लगातार 40 दिनों तक आने से व दर्शन पूजन करने से शिव भक्तों की हर मनोकामना पूरी होती है. यही कारण है कि दूर-दूर से लोग इस मंदिर में भगवान महादेव के दर्शन करने के लिए आते हैं. भक्त घंटों लाइन में लगकर भगवान बल्केश्वर के दर्शन करते हैं. पास में ही यमुना का तट है जो देखने में बेहद मनमोहक लगता है.

बिल्व पत्र के घने जंगलों से निकली थी शिवलिंग
बलकेश्वर मंदिर के स्थापना को लेकर कोई ठोस प्रमाण नहीं है, लेकिन आम लोगों में किवदन्ती है कि यह मंदिर लगभग 700 साल पुराना है और उस वक्‍त इसके आसपास बिल्व पत्र के घने जंगल हुआ करते थे. जंगल की कटाई के दौरान यहां पर भगवान महादेव की शिवलिंग दिखाई दी थी और यहां सबसे पहले उस वक्त बकरियां चलाने वाले को शिवलिंग होने की जानकारी मिली थी, क्योंकि ये शिवलिंग बिल्व पत्र के घने जंगल में मिली थी इस वजह से इसका नाम बल्केश्वर मंदिर रखा गया.

Tags: Agra news, Sawan



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here