Anant Chaturdashi: केवल 2 रक्षा सूत्र से दूर होंगी अंनत बाधाएं, काशी के ज्योतिषी से जानिए कैसे करें भगवान विष्णु की पूजा

0
83


रिपोर्ट: अभिषेक जायसवाल

वाराणसी: भगवान विष्णु के पूजन और व्रत का पर्व अंनत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi 2022) इस बार 9 सितम्बर को मनाया जाएगा. इस पर्व पर भगवान विष्णु की खास तरह से पूजन करने से न सिर्फ श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, बल्कि जीवन की सारी बाधाएं और परेशानियां भी दूर हो जाती हैं. साथ ही मां लक्ष्मी का आशीर्वाद भी मिलता है. यदि आपके जीवन में भी ढेरों परेशानियां हैं तो आप भी इस अंनत चतुर्दशी पर इस खास विधि से जरूर पूजन करिए.

काशी के प्रख्यात ज्योतिषी स्वामी कन्हैया महाराज ने बताया कि अंनत चतुर्दशी पर वैवाहिक दंपति को व्रत रखने के साथ ही भगवान विष्णु के सामने दो रक्षा सूत्र रखकर पूरे विधि विधान से उसकी पूजा करना चाहिए. इस दौरान हल्दी, पीली मिठाई, पीला वस्त्र भगवान विष्णु को अर्पण कर पूजा और फिर व्रत के साथ पूरे दिन भगवान विष्णु के मंत्र का जाप करना चाहिए.

परेशानी और बाधाएं होती हैं दूर
इसके बाद वैवाहिक दंपति को इस रक्षा सूत्र को हाथ मे धारण करना चाहिए और जब भी ये रक्षा सूत्र खुले तो इसे बहती नदी में विसर्जित कर देना चाहिए. धार्मिक मान्यता है कि ऐसा करने से जीवन की सारी बाधाएं और परेशानियां दूर हो जाती हैं और शत्रुओं पर विजय भी प्राप्त होता है.

ये है धार्मिक कथा
पौराणिक कथाओं के मुताबिक, पांडव काल के समय भगवान श्रीकृष्ण के कहने पर युधिष्ठिर ने भी इसी दिन भगवान विष्णु का पूजन और व्रत किया था. इसी के कारण महाभारत के युद्ध में पांडवों को विजय हासिल हुई थी और उन्हें उनका राज पाठ सब कुछ वापस मिल गया था. यही वजह है कि इस दिन व्रत और पूजन का विशेष महत्व है.

Tags: Uttar pradesh news, Varanasi news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here