Bihar news former bhabhua nagar parishad executive officer given poisonous lemon water to contractor bruk

0
29


रिपोर्ट- अभिनव कुमार सिंह 

कैमूर. बिहार के एक पूर्व सरकारी अधिकारी (Former Government Officer) पर ठेकेदार को जहर देने का आरोप लगा था जिसकी अब एफएसएल रिपोर्ट में पुष्टि भी हो गयी है. एफएसएल रिपोर्ट आने के बाद कैमूर जिले के भभुआ नगर परिषद (Bhabhua Nagar Parishad) के पूर्व कार्यपालक पदाधिकारी अनुभूति श्रीवास्तव और जूनियर इंजीनियर राहुल सिंह को गिरफ्तार करने का आदेश जारी किया गया है. भभुआ डीएसपी सुनीता कुमारी ने अनुभूति श्रीवास्तव और राहुल सिंह पर जहर देने का आरोप लगने के बाद गिरफ्तार करने का निर्देश दिया है. दरअसल यह पूरा मामला वर्ष 1 जून 2020 का बताया जाता है जब भभुआ नगर परिषद के पूर्व कार्यपालक पदाधिकारी अनुभूति श्रीवास्तव पर ठेकेदार वेद प्रकाश उर्फ राजेश कुमार ने अपने घर बुलाकर नींबू पानी में जहर देने का आरोप लगाया था. राजेश कुमार के अनुसार नींबू पानी पीते ही उनकी तबीयत खराब हो गई थी, जिसके बाद उन्हें भभुआ के एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था. बता दें, अनुभूति श्रीवास्तव पीड़ित राजेश कुमार की पत्नी नलिनी प्रकाश की एक कम्पनी में पार्टनर भी थे.

इस मामले में पीड़ित राजेश कुमार ने भभुआ थाने में मामला दर्ज कराने के लिए आवेदन दिया था. हालांकि थाने में यह मामला दर्ज नहीं हुआ. लेकिन जब पीड़ित ने भभुआ कोर्ट में परिवाद पत्र दिया तो तत्काल थाने में मामला दर्ज किया गया, जिसके बाद राजेश के ब्लड और यूरिन सैंपल को जांच के लिए एफएसएल के पास भेजा गया था. एफएसएल की रिपोर्ट के आधार पर भभुआ डीएसपी ने अनुभूति श्रीवास्तव और राहुल सिंह को गिरफ्तारी का आदेश जारी किया है.

22 करोड़ के गबन का लगा था आरोप

बता दें, अनुभूति श्रीवास्तव वही पदाधिकारी हैं जिनपर 22 करोड़ के गबन का आरोप भी लगा था. भभुआ नगर परिषद के पूर्व सभापति बजरंज बहादुर उर्फ मलाई सिंह ने इन पर बक्सर, भोजपुर में गबन का आरोप लगाया था. इसके बाद अनुभूति श्रीवास्तव का तबादला हाजीपुर नगर परिषद में हो गया था. यही नहीं सीएम नीतीश कुमार के जनता दरबार में भी पूर्व भभुआ नगर सभापति ने अनुभूति श्रीवास्तव की शिकायत की थी तो उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था. उनके कई जगहों पर आय से ज्यादा की सम्पत्ति मिली. देश के कई राज्यों के साथ-साथ दुबई में भी इनके फ्लैट खरीदने का पता चला था.
इधर वेद प्रकाश उर्फ राजेश कुमार ने बताया कि जब अनुभूति श्रीवास्तव भभुआ नगर परिषद के कार्यपाल पदाधिकारी थे तो हम भी नगर परिषद में ठेकेदारी करते थे. उसी समय उनके साथ जान-पहचान हुई थी. उनकी पत्नी नलिनी प्रकाश के एक कम्पनी में अनुभूति श्रीवास्तव पार्टनर थे, उसी सिलसिले में उनके घर उनका आना-जाना होता था. इसी दौरान एक दिन उन्होंने अपने घर बुलाया और नींबू पानी पीने के लिए दिया जिसके बाद मेरी तबीयत बिगड़ने लगी. जिसके बाद तत्काल मुझे इलाज के लिए भभुआ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था.
एफएसएल रिपोर्ट में हुई जहर की पुष्टि
वेद प्रकाश ने कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास हो गया कि मुझे जान से मारने के लिए नींबू पानी में जहर दिया गया था. अब कोर्ट के आदेश पर प्राथमिकी दर्ज की गयी है. एफएसएल जांच रिपोर्ट में जहर की पुष्टि हुई है. गिरफ्तारी का आदेश भी निकल चुका है, हम चाहते हैं कि जल्द कार्रवाई हो. वहीं इस मामले में भभुआ डीएसपी सुनीता कुमारी ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर प्राथमिकी दर्ज की गई है. एफएसएल की रिपोर्ट में जहर देने का पुष्टि हुई है. पूर्व कार्यपालक पदाधिकारी की गिरफ्तारी का आदेश जारी हुआ है, आगे की कार्रवाई जारी है.

आपके शहर से (कैमूर)

Tags: Bihar Government, Kaimur, Poison



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here