Certificate will no longer be made from Jharia, Katras, Sindri and Chhattarand circle office, certificate will be issued from corporation headquarters | झरिया, कतरास, सिंदरी और छाताटांड़ अंचल कार्यालय से अब नहीं बनेगा प्रमाणपत्र, निगम मुख्यालय से जारी होगा सर्टिफिकेट

0
16


  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • Certificate Will No Longer Be Made From Jharia, Katras, Sindri And Chhattarand Circle Office, Certificate Will Be Issued From Corporation Headquarters

धनबाद5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

निगम मुख्यालय का जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र शाखा।

  • निगम एक और रजिस्ट्रार 5, इस पर सांख्यिकी विभाग की आपत्ति और हाल में फर्जीवाड़े पर व्यवस्था में बदलाव

नगर निगम में जन्म एवं मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने की व्यवस्था बदल गई है। अब निगम मुख्यालय से ही जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र निर्गत किया जाएगा। निगम के झरिया, कतरास, सिंदरी और छाताटांड़ स्थित कार्यालय से अब प्रमाण पत्र निर्गत नहीं किया जाएगा। नई व्यवस्था लागू हाे गई है।

निगम में यह व्यवस्था सांख्यिकी निदेशालय के निर्देश किया गया है। पहले सभी कार्यालयाें से जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र निर्गत किया जाता था। सभी अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी काे रजिस्ट्रार का दर्जा प्राप्त था। सभी के नाम पर आईडी, पासवर्ड जारी था। अंचल के लाेग स्थानीय अंचल कार्यालय में ही आवेदन देते थे और वहीं से उनका प्रमाणपत्र निर्गत हाे जाता था, लेकिन अब उन्हें निगम मुख्यालय आना हाेगा।

सांख्यिकी विभाग के एक अधिकारी को ही रजिस्ट्रार बनाने का निर्देश
सांख्यिकी निदेशालय स्तर पर ही सभी रजिस्ट्रार काे आईडी और पासवर्ड निर्गत किया जाता है। हाल में जन्म एवं मृत्यु प्रमाणपत्र में हुए फर्जीवाड़े काे निदेशालय ने गंभीरता से लेते हुए ओटीपी व्यवस्था काे लागू किया और सभी रजिस्ट्रारों काे अपना-अपना माेबाइल नंबर निदेशालय के पाेर्टल पर रजिस्टर्ड कराने का निर्देश दिया। माेबाइल रजिस्टर्ड के दाैरान ही खुलासा हुआ कि निगम में कुल पांच रजिस्ट्रार हैं। पांच लाेगाें काे रजिस्ट्रार बनाए जाने पर निदेशालय ने आपत्ति व्यक्त करते हुए किसी एक काे ही रजिस्ट्रार बनाने का निर्देश दिया।

एक के ही डिजिटल सिग्नेचर पर अब सभी अंचलों में प्रमाणपत्र
निगम में बदली व्यवस्था के बाद अब कार्यपालक पदाधिकारी माे अनीश ही इकलाैते रजिस्ट्रार हैं। सांख्यिकी निदेशालय के पार्टल में इनका माेबाइल नंबर रजिस्टर्ड है। जन्म, मृत्यु का पाेर्टल इन्हीं के आईडी और पासवर्ड से खुलेगा। इनके माेबाइल पर ओटीपी आने के बाद ही प्रमाणपत्र निर्गत हाे पाएगा। रजिस्ट्रार काे प्रमाण पत्र निर्गत करने के लिए हर दिन ओटीपी पाेर्टल में अपलाेड करना हाेगा, तभी लाॅग-इन होगा। इन्ही के डिजिटल सिग्नेचर से धनबाद के अलावा झरिया, कतरास, सिंदरी और छाताटांड़ क्षेत्र के रहने वाले लाेगाें का प्रमाण पत्र निर्गत हाेगा।

राहत, लोग अपने अंचलों में भी जमा कर सकेंगे आवेदन, मेल पर मिलेगा सर्टिफिकेट
लाेगाें काे प्रमाणपत्र बनवाने के लिए अधिक परेशान नहीं हाेना पड़े, इसके लिए निगम ने लाेगाें काे राहत दी है। वार्ड के लाेग अपने अंचल कार्यालय में जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए आवेदन जमा कर सकते है। अंचल कार्यालय से सभी आवेदन निगम मुख्यालय भेजा जाएगा और यहीं से सभी प्रमाणपत्र निर्गत किया जाएगा। प्रमाण पत्र आवेदनकर्ता के मेल आईडी पर भेजा जाएगा। जिनका अपना मेल आईडी नहीं है, उन्हें प्रमाण पत्र लेने के लिए कार्यालय आना हाेगा।

अब केवल मुख्यालय से ही प्रमाणपत्र जारी
सांख्यिकी निदेशालय के निर्देश पर व्यवस्था में बदलाव किया गया है। अब केवल निगम मुख्यालय से ही जन्म एवं मृत्यु प्रमाणपत्र निर्गत किया जाएगा। जरूरत के अनुसार जन्म-मृत्यु शाखा में मैनपावर भी बढ़ाया जाएगा।”-सत्येंद्र कुमार, नगर आयुक्त

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here