Childrens Day 2022: छात्र हों तो ऐसे…पढ़ाई के साथ-साथ करते हैं दिव्यांगों की सेवा

0
10


रिपोर्ट- विशाल झा

गाजियाबाद: देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को हुआ था. नेहरू को बच्चों के प्रति काफी लगाव और प्रेम था इसलिए उनको चाचा नेहरू का भी टाइटल दिया गया. इस टाइटल और उनके बच्चों के प्रति लगाव को देखते हुए इनके जन्मदिवस को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है. वैसे तो बाल दिवस पर स्कूलों में सामाजिक संस्थाओं की ओर से संबंधित पार्टियों की तरफ से कई तरह के कार्यक्रम आयोजित होते हैं, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी संस्था के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको छात्र चलाते हैं.

वैसे तो बाल दिवस के दिन स्कूलों, कॉलेज में कई तरह की प्रतियोगिता होती हैं. जिसमें खेल-कूद, डिबेट, नृत्य, संगीत, भाषण और अन्य कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है. आज हम आपको कुछ ऐसे छात्र की कहानी बता रहे हैं जो अपनी पढ़ाई के साथ दिव्यांगों की सेवा भी करते हैं. अक्सर देखा जाता है कि, वीकेंड में ज्यादातर युवा छात्र दोस्तों के साथ मॉल, सिनेमा, रेस्टोरेंट में जाकर वीकेंड का लुफ्त उठाते हैं. लेकिन नींव शक्ति संस्था में वॉलंटियर्स का मोर्चा संभालने वाले छात्र दिव्यांगजनों की सेवा करते हैं. छात्रों का कहना है कि, ऐसा करने से इन्हें सकारात्मक ऊर्जा मिलती है और राहत मिलती है.

दिव्यांगजनों में ज्यादा होता है आत्मविश्वास
NEWS 18 LOCAL की टीम संस्था में सहयोग करने वाले छात्र आर्य चौधरी, दिव्यानी, अंशिका, हर्ष चौधरी समेत अन्य छात्रों से बात की. इस दौरान छात्रों ने बताया कि, दिव्यांगों की जिंदगी चैलेंजिंग जरूर होती है, पर इनमें किसी सामान्य व्यक्ति से ज्यादा आत्मविश्वास होता है. वो देखकर हमें काफ़ी अच्छा लगता है. हम इनकी सेवा के साथ अपनी पढ़ाई के लिए भी समय निकाल लेते हैं. दिव्यांगों से हमें भी प्रेरणा मिलती है.

मुहैया कराते हैं मूलभूत सुविधाएं और सर्टिफिकेट
दिव्यांगों के लिए कार्य करने वाली नींव शक्ति संस्था के संस्थापक ऋचा बल्लभ खुलबै से भी बातचीत की गई. ऋचा का कहना है कि, इस संस्था के द्वारा मुख्य रूप से दिव्यांगों के सर्टिफिकेट और उनकी समस्याओं कों कम करने के लिए कार्य किया जाता है. जिसमें कॉलेज और स्कूल में पढ़ने वाले छात्र महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इसके अलावा व्हीलचेयर डिस्ट्रीब्यूशन भी करते हैं. साथ ही साथ दिव्यांगों को प्रशासनिक स्तर पर उनकी सहायता भी की जाती है. वह आगे बताती हैं कि, छात्र चंचल सोशल मीडिया मैनेजर की भूमिका में काम करते हैं, तो वहीं ग्राफ़िक हेड रोहित कुशवाहा जी हैं. संस्था की डाटा हैंडलिंग प्राची शर्मा करती हैं.

Tags: Children, Ghaziabad News, Pandit Jawaharlal Nehru



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here