CMO vacates 200 beds in private hospitals, action will be taken against hospitals

0
14


डीएम ने बताया कि कई अस्पतालों ने ऐसे मरीजों को बेड दे रखी थी, जिन्हें जरूरत नहीं थी.

जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि उन्होंने जिन अस्पतालों में जो गड़बड़ियां पाईं, उनकी लिखित रिपोर्ट पेश करें. दोषी अस्पतालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी.

नई दिल्ली. कोरोना के चलते सभी अस्पतालों के बेड्स लगभग भर गए हैं. गौतमबुद्ध नगर में भी यही हालात हैं. जिला प्रसाशन लगातार बेड्स की संख्या बढ़ाने का प्रयास कर रहा है, लेकिन मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते वे सभी प्रयास नाकाफी नजर आ रहे हैं. इसके साथ-साथ तमाम अस्पतालों से ऑक्सिजन की कमी की खबरें भी आ रही हैं. उसका संज्ञान भी जिला प्रसाशन ने लिया और इसको लेकर आज जिलाधिकारी ने बैठक कर कुछ कड़े फैसले किए हैं. इसके साथ ही कुछ अस्पतालों की लापरवाही भी सामने आ रही है, उन पर कार्रवाई भी की जा सकती है. 200 बेड खाली कराए कोरोना को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग सख्त हुआ. जिला मजिस्ट्रेट सुहास एलवाई के निर्देश पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर दीपक अहोरी ने अपनी टीम के अधिकारियों साथ कई प्राइवेट अस्पतालों का निरीक्षण किया और 200 से अधिक बेड खाली कराए. इस मामले को लेकर कई अस्पतालों पर हो सकती है कार्रवाई. जिला मजिस्ट्रेट ने इस बारे में सीएमओ को रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिया है.

Youtube Video

जिला मैजिस्ट्रेट ने ऑनलाइन बैठक की कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर जिला मजिस्ट्रेट सुहास ने ऑनलाइन बैठक करते हुए कई बड़े निर्णय लिए. जिन प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों को बिना जरूरत बेड उपलब्ध कराए गए हैं, उनके विरुद्ध कल बड़ी कार्रवाई होने की संभावना है. बिना जरूरत मरीजों को दिए गए थे बेड
आपको बता दें कि सीएमओ के साथ अधिकारियों ने पाया कि विभिन्न प्राइवेट अस्पतालों में बिना जरूरत मरीजों को बेड उपलब्ध कराए गए. उन्होंने यह भी पाया कि ऑक्सीजन को लेकर तथ्यहीन खबरें अस्पतालों के द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से जारी की जा रही थीं. जिलाधिकारी ने इस पर भी संज्ञान लिया है. जिलाधिकारी ने रिपोर्ट तलब की जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने इस प्रकरण को बहुत ही गंभीरता के साथ लिया है. उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया है कि उन्होंने जिन अस्पतालों में जो गड़बड़ियां पाईं, उनको लेकर लिखित रिपोर्ट तैयार कर पेश करें. दोषी अस्पतालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी.



<!–

–>

<!–

–>




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here