Delhi Monsoon: वॉटर लॉगिंग पर सरकार और सिविक एजेंसियों में शुरू हुई ‘ब्लेम गेम’ की राजनीति, चढ़ा सियासी पारा

0
11


नई दिल्ली. दिल्ली में मॉनसून (Monsoon) ने दस्तक दे दी है. मॉनसून की पहली बारिश में ही दिल्ली पानी-पानी हो गई है. दिल्ली के कई इलाकों में तो सोमवार को इतनी भीषण वाटर लॉगिंग (Heavy Water Logging) हुई है कि साउथ दिल्ली के प्रह्लादपुर अंडरपास इलाके में तो 27 साल के युवक रवि चौटाला की डूबने से जान तक चली गई है. वॉटर लॉगिंग को लेकर ब्लेम गेम (Blame Game) की राजनीति के साथ‌ सियासत भी तेज हो गई है.

मानसून की पहली बारिश में हुई भीषण वाटर लॉगिंग पर भाजपा ने केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया है कि पहली ही बरसात ने दिल्ली को ऐसा धोया है कि ‘वर्ल्ड क्लास’ दिल्ली में जगह-जगह टापू नजर आने लगे हैं. पहली ही बरसात ने दिल्ली के छोटे-बड़े नालों में उफान ला दिया और अनेक कॉलोनियों सहित सड़कों पर पानी जमा हो गया.

ये भी पढ़ें: Ration Crad: आखिरकार केजरीवाल सरकार ने लागू की ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ योजना, ऐसे उठा सकते हैं लाभ

भाजपा के सुझावों को केजरीवाल सरकार ने किया अनदेखा

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता (Adesh Gupta) का कहना है कि हमने तो पहले ही दिल्ली सरकार को आगाह किया था और साथ ही कई सुझाव भी दिए थे ताकि मानसून आने से पहले सरकार अपनी पूरी तैयारी कर लें. लेकिन दूसरे राज्यों में चुनावी पर्यटन में व्यस्त सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और उनके मंत्री ने इस बात को भी अनदेखा कर दिया जिससे आज स्थिति बद से बदतर हो गई है.

मॉनसून की पहली बारिश में वॉटर लॉगिंग को लेकर ब्लेम गेम की राजनीति भी तेज हो गई है.

नालों की 100 फीसदी सफाई के दावे की पोल खुली: कांग्रेस 

इसके अलावा कांग्रेस (Congress) ने भी वॉटर लॉगिंग पर भाजपा और आम आदमी पार्टी सरकार (AAP Government) को कटघरे में खड़ा किया है. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (DPCC) के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने आरोप लगाया है कि मॉनसून (Monsoon) की बारिश से हुए जल भराव ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) और भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम (MCD) द्वारा नालों की 100 फीसदी सफाई के दावे की पोल खोल कर रख दी है.

डिस्लिटिंग में हुए भ्रष्टाचार की जांच विजिलेंस से कराने की मांग

उन्हाेंने कहा कि जब भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम और पीडब्लूडी विभाग द्वारा नालों से गाद पूरी तरह की निकाल दी थी तब दिल्ली की सड़कों पर जल जमाव कैसे हो रहा है? उन्होंने कहा कि डिस्लिटिंग पर हुए भ्रष्टाचार की जांच विजिलेन्स द्वारा होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार और भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम द्वारा केवल कागजों में ही नालों की सफाई होती है. वास्तविकता मानसून के दौरान दिल्लीवालों के सामने है.

दिल्ली के लिए 3 दिन ज्यादा कठिन, दिन रात बारिश होने की संभावना

दिल्ली के लोक निर्माण विभाग मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है कि अगले 3 दिनों तक दिल्ली में लगातार बारिश होने की संभावना है. दिल्ली के लिए अगले 3 दिन काफी कठिन है. इसके लिए सभी को तैयार रहने की जरूरत है. तीन दिनों तक दिन रात बारिश हो सकती है और खासकर रात के दौरान ज्यादा तैयारी रखनी पड़ेगी.

दिल्ली सरकार के पास हैं 1,500 से ज्यादा पंप सेट

मंत्री जैन का कहना है कि दिल्ली सरकार (Delhi Government) के पास 1,500 से ज्यादा पंपसेट हैं. हमें उन सभी को अलर्ट मोड पर रखना है. इस दौरान सभी अधिकारी और इंजीनियर उपलब्ध रहेंगे क्योंकि इनकी अगले कुछ दिनों तक 24 घंटे में उनकी कभी भी जरूरत पड़ सकती है.

ये भी पढ़ें: कार सहित सड़क के अंदर समाया ड्राइवर, ऐसी बची जान, देखें वायरल VIDEO

सीएम केजरीवाल बोले-मिंटो ब्रिज की तर्ज पर 147 पॉइंट की भी की जाए मैपिंग

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का वाटर लॉगिंग की समस्या को लेकर कहना है कि दिल्ली भर में ऐसे करीब 147 पॉइंट है जहां पर हर साल बारिश के दौरान पानी जमा होता है. इन सभी पॉइंट्स की मैपिंग करवाई जाए. मिंटो ब्रिज की तरह इन सभी पॉइंट्स का भी प्लान तैयार किया जाना चाहिए और इसको लागू करना चाहिए. इससे दिल्ली को पूरी तरह से जलभराव से मुक्ति मिल सकती है.

नालों को लेकर सरकारी विभागों और एमसीडी के बीच नहीं है‌ कोई तालमेल: केजरीवाल

सीएम केजरीवाल का यह भी कहना है कि कई जगह तो ऐसे हैं कि दिल्ली जल बोर्ड का नाला जहां एमसीडी के नाले में मिलता है, वहां कोई तालमेल नहीं है. इसलिये सभी एजेंसी को सुझाव है कि पूरे दिल्ली के ड्रेनेज सिस्टम के लिए हम अभ्यास शुरू कर दें और पूरी दिल्ली का ड्रेनेज सिस्टम का अच्छा डिजाइन होना चाहिए. अगर सारी एजेंसियों से यह डिजाइन बन कर आए, तो हम उसे लागू भी कराएंगे.

केजरीवाल सरकार ने नालों से नहीं निकलवाई गाद:ंरामवीर सिंह बिधूड़ी

दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने वाटर लॉगिंग पर केजरीवाल सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि नालों से सिल्ट निकालने का कोई काम नहीं किया गया और पीडब्लूडी ने भी मॉनसून के दौरान होने वाली वाटर लॉगिंग से निपटने के लिए निचले इलाके जहां हर बार बारिश में पानी भर जाता है, वहां के पंपों तक की सुध नहीं ली गई. बारिश आने पर 70 फीसदी पंप खराब पाए गए है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली: ASI की बेटी को ताला फेंककर मारने वाले DCP फैमिली पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज

इन इलाकों में वाटर लॉगिंग होने से लोगों को हुई ज्यादा परेशानी

मानसून की पहली बारिश के दिन दिल्ली के कई इलाकों में अभी जलजमाव हो गया था. इनमें प्रहलादपुर, मूलचंद, आई.टी.ओ., रामलीला मैदान, प्रगति मैदान, गीता कॉलोनी, द्वारका, नजफगढ़, मॉडल टाउन, मुंडका इत्यादि क्षेत्रों में पानी भरने से लोगों को भारी परेशानी हुई.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here