Ed seized journalist property who sell indian army information to chine hpvk

0
15


दिल्ली. देश की रक्षा और सुरक्षा से संबंधित बेहद महत्वपूर्ण दस्तावेज सहित सूचनाओं (supplied confidential and sensitive information ) को चीन के एजेंट को देने के आरोप में (Chinese Intelligence officers ) केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने राजीव शर्मा नाम के पत्रकार के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए उसके खिलाफ दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग ( Prevention of Money Laundering Act (PMLA))  से जुड़े मामले में तफ़्तीश के बाद उसकी करीब 48 लाख 21 हजार रुपये की संपत्ति को अटेचमेंट (attached assets ) किया है.

ईडी मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक पत्रकार राजीव शर्मा की दिल्ली के पीतमपुरा स्थित आवासीय मकान को जब्त किया गया है. दरअसल, पत्रकार राजीव शर्मा (Journalist) के खिलाफ देश की खुफिया सूचनाओं को चीन से जुड़े पत्रकारिता संस्थान सहित उसके आड़ में चीनी खुफिया एजेंट तक पहुंचाने के  बेहद संगीन आरोप लगे थे. लिहाजा, इसी मसले पर केंद्रीय जांच एजेंसी द्वारा शख़्त कार्रवाई हुई है.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के बाद ईडी की कार्रवाई

पत्रकार राजीव शर्मा की 48.21 लाख की प्रॉपर्टी को ED ने PMLA केस के तहत अटैच्ड किया है. राजीव शर्मा (Rajeev Sharma) पर देश की महवपूर्ण जानकारी चीनी इंटेलिजेंस एजेंसियों को बेचने का आरोप था. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल (Delhi police) ने इस मामले में खुलासा करते हुए गिरफ्तार किया था. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीम ने स्पेशल सीक्रेट्स एक्ट (Official Secrets Act) सहित अन्य कई धाराओं के तहत कार्रवाई को अंजाम दी थी. उसके बाद इसी मामले की तफ़्तीश के दौरान ये जानकारी स्पेशल सेल (Special cell) को मिली थी कि आरोपी राजीव शर्मा को चीन की कई शैल कंपनियों यानी मुखौटा कम्पनी के मार्फत लाखों रुपये प्राप्त हुए हैं.

दिल्ली की शैल कंपनी का चीन कनेक्शन

केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी के द्वारा मामले की तफ़्तीश के दौरान ये जानकारी सामने आई थी कि दिल्ली एयरपोर्ट (Delhi Airport) के पास ही स्थित महिपालपुर इलाके में एक कंपनी के मार्फत राजीव शर्मा को लाखों रुपये का भुगतान किया गया था. जब उस कंपनी से जुड़े मामलों की तफ़्तीश की गई, तब पता चला कि वो कंपनी. एक शैल /मुखौटा कंपनी है. उस शैल कंपनी को दिल्ली में ही एक चीन मूल के नागरिक द्वारा संचालित किया जा रहा  है. हालांकि, कंपनी के संचालक के बारे में विस्तार से जब जानकारी जुटाई गई तो उसका नाम सूरज निकला. तफ़्तीश के दौरान सूरज का असली नाम जेंग चेंग ( Zhang Cheng Zhang Lixia ) और किंग शी ( Qing Shi ) पाया गया. इन दोनों आरोपियों ने अपने साथ अपने तरह के रंग रूप वाले नेपाल मूल के शख्स को साथ रखा था. नेपाल मूल के रहने वाले आरोपी का नाम शेर सिंह उर्फ राज बोहरा है. ये सभी लोग चीन की खुफिया एजेंसी द्वारा एक साजिश के तहत एक विशेष ऑपरेशन के तहत कार्य करते थे. इस बात का खुलासा ईडी द्वारा दायर हो चुके आरोपपत्र (Chargsheet ) में किया जा चुका है. सात सितंबर 2021 को ईडी द्वारा दायर आरोपपत्र पर दिल्ली स्थित विशेष कोर्ट द्वारा संज्ञान लिया गया था.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here