Example of humanity:- जानिए कैसे प्रयागराज में 70 वर्षीय जगदीप सिंह पेश कर रहे हैं इंसानियत की मिसाल

0
57


रिपोर्ट- प्राची शर्मा

प्रयागराज:-आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग इंसानियत को भूलकर आर्थिक जरूरत को पूरा करने की अंधी दौड़ में भागे जा रहे हैं.लेकिन आज भी हमारे समाज में कुछ लोग हैं जिन्होंने ने अपनी जिंदगी ही लोगों के नाम कर दी है.ऐसे ही एक70 वर्षीय बुजुर्ग हैं जो अपने जीवन के आखिरी पड़ाव में भी इंसानियत की मिसाल पेश कर रहे हैं.जी हां प्रयागराज के पुराने शहर चौक में रहने वाले सरदार जगदीप सिंह सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पूरी शिद्दत से जुटे रहते हैं.दरअसल प्रयागराज की सड़कों पर लगने वाले जाम की वजह से लोग बेतरतीब तरीके से वाहन चलाते हैं.इस ट्रैफिक के चलते लोगों को कई सारी समस्याओं का सामना पड़ता है.कई बार यह समस्या त्रासदी का भी रूप ले लेती है.ऐसे में जगदीप सिंह कहते हैं कि किसी के जीवन में कोई गंभीर समस्या ना हो इसलिए मैं सालों से सड़कों पर इंसानियत का फर्ज अदा करता हूं और लोगों से ट्रैफिक के नियमों का पालन करने के लिए अपील करता हूं.हो सकता है किसी विद्यार्थी की कोई जरूरी परीक्षा हो, किसी को अपने घर वाले को अस्पताल ले जाना हो या कुछ भी.ऐसे में मेरी यह छोटी-छोटी कोशिशें किसी की जिंदगी के कुछ खास पल को खूबसूरत बना दें बस इसी उम्मीद में सड़कों के बीच खड़ा होकर जाम हटवाता हूं.सरदार जगदीप सिंह की चौक में जूते की थोक दुकान है.जगदीप जी जब भी देखते हैं कि सड़कों पर भीषण जाम लग गया है तो वे अपनी दुकान बंद करके पहुंच जाते हैं जाम हटवाने.चाहे सर्द मौसम हो या तपती दुपहरी उनके लिए यह बात मायने नहीं रखती.

महिला की मौत को देखकर परेशान हो गया था मन
जगदीप सिंह ने हमें बताया कि एक बार रानीमंडी में बहुत जाम लगा था.इसी बीच एक महिला प्रसव पीड़ा के कारण परिजनों के साथ अस्पताल जा रही थी.लेकिन सड़क पर भीषण जाम होने के कारण वह समय से अस्पताल नहीं पहुंच पाई.रास्ते में ही उसकी डिलीवरी हुई और जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गई.इस घटना ने मुझे हिला कर रख दिया.तब से मैने ठान लिया कि अब किसी अन्य महिला या व्यक्ति के साथ ऐसा दर्दनाक हादसा नहीं होने देंगे.जीवन के आखिरी पड़ाव में आम लोगों के लिए इंसानियत की अद्भुत मिसाल पेश करते हैं जगदीप सिंह.ये अपनी सभी डिग्रियां एक किनारे रखकर सालों से सिर्फ इंसानियत के रास्ते पर चल रहे हैं.वह बताते हैं कि उन्होंने एमए,एलएलबी किया है.उनका चयन एनडीए में भी हुआ था लेकिन मां ने उन्हें नौकरी पर जाने नहीं दिया था.इसके साथ ही जगदीप सिंह के इन कार्यों के चलते उन्हें कई बार पुरस्कृत भी किया जा चुका है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : May 16, 2022, 11:40 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here