Film Industry: फिल्मों के चयन से पहले समझिए बारीकियां, निर्माता ने शेयर की बड़ी जानकारी

0
18


रिपोर्ट- विशाल भटनागर

मेरठ. मेरठ में स्थित चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय परिसर स्थित अप्लाइड साइंस ऑडिटोरियम में तिलक पत्रकारिता एवं जनसंचार स्कूल व मेरठ चलचित्र सोसाइटी के संयुक्त तत्वाधान नवाकुंर फिल्म महोत्सव का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में देशभर के विभिन्न युवा कलाकारों द्वारा कई विषयों पर शॉर्ट फिल्म प्रदर्शित की गईं. युवाओं द्वारा बनाई गई फिल्म की समीक्षा फिल्म निर्देशक मनोज अग्रवाल द्वारा की गई. इसी कड़ी में NEWS 18 LOCAL ने भी मनोज अग्रवाल से खास बातचीत की. फिल्म निर्माता मनोज अग्रवाल से बातचीत के कुछ खास अंश जो आपके सामने रखने जा रहे है.

Q- शॉर्ट फिल्म पर आपकी राय
A- दरअसल युवाओं द्वारा जिस प्रकार की फिल्में बनाई गई हैं, वह काबिले तारीफ हैं. कुछ फिल्में ऐसी थीं. जिन्हें देखकर लगा ही नहीं की युवाओं द्वारा तैयार की गई हैं. फिल्म की स्क्रिप्ट से लेकर एक्टिंग सहित सभी तथ्य ऐसे थे जैसे किसी बड़े निर्माता द्वारा फिल्म बनाई गई हो.

Q- आज के समय फिल्म बनाना कितनी चुनौतीपूर्ण
A- पहले फिल्म बनाना इतनी बड़ी चुनौती नहीं हुआ करती थी. विषयों को लेकर ऐसी फिल्में बनाई जाती थीं, जो कि परिवार के सदस्य एक बार नहीं बल्कि कई बार देख सकें. लेकिन वर्तमान समय में विषयों को लेकर सोचना पड़ता है. क्योंकि, जिस तरीके से विरोध होता है. उसमें फिल्म निर्माता की जिम्मेदारी और भी अहम हो जाती है. वह ऐसे विषय का चयन करें. जिससे कि सभी लोग देख सकें. क्योंकि, फिल्में सिर्फ फिल्म नहीं होती है. समाज में एक संदेश देती हैं.

Q- नोएडा फिल्म सिटी को कैसे देखते हैं
A- उत्तर प्रदेश सरकार की अच्छी पहल है. नोएडा में जब फिल्म सिटी बनकर तैयार हो जाएगी. तो उससे जो मध्यम वर्ग के युवाओं के सपने होते हैं. वह अपने सपनों को उड़ान भर पाएंगे. मुंबई जैसे शहर में रहकर युवा सपना पूरा करने में कई बार असफल हो जाते हैं. क्योंकि इतने महंगे शहर में रहकर अपने सपने पूरा करना बहुत बड़ी चुनौती होती है.

Q- युवाओं के लिए कोई टिप्स
A- आज के दौर की बात की जाए तो युवाओं को अपनी प्रतिभा पर भरोसा रखते हुए दिन-प्रतिदिन निखार करना चाहिए. क्योंकि चाहे किसी भी क्षेत्र की बात की जाए कॉन्पिटिशन काफी बढ़ गया है. इसी तरीके से फिल्मी दुनिया की बात करें तो कॉन्पिटिशन काफी है. क्योंकि दर्शकों को क्या पसंद आए क्या ना पसंद आए. यह बड़ी चुनौती है ऐसे में युवा आकलन करें. उन्हें क्या पसंद है. जो कि अन्य लोग देख सके.

बताते चलें कि मेरठ में चर्चित सोसाइटी के तत्वधान में यह फिल्म नवांकुर का आयोजन किया गया था. जिसमें देश के 11 राज्यों के युवाओं द्वारा शुभ दीपावली, अंतर फिल्म, दर्द विभाजन का, दा हेलमेट, चप्पल, जीवन आनंद, सशक्त गांव समृद्ध भारत फिल्मों को बनाने वाले युवाओं को सम्मानित किया गया था. फिल्म निर्माता मनोज अग्रवाल ने परदेसी बाबू, हद कर दी आपने, वाह तेरा क्या कहना है, रामजाने, खतरनाक, बहुरानी जैसी अनेकों सुपर हिट फिल्म बनाई हैं.

Tags: Bhojpuri Film Industry, Film, Film city in up, Film industry, Meerut news, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here