Ganesh Chaturthi: क्यों खास हैं मथुरा के कारीगरों की गणेश प्रतिमाएं, इस खास मिश्रण का है प्रयोग

0
43


रिपोर्ट – चंदन सैनी

मथुरा. वृंदावन तीर्थ स्थली कही जाती है. इसी को लेकर मथुरा वृंदावन में हर पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. जैसा कि आप सभी जानते हैं गणेश चतुर्थी का पर्व बहुत ही नजदीक आ रहा है. मथुरा के कारीगर गणेश जी की मूर्तियां बनाने में जुटे हुए हैं. NEWS 18 LOCAL की टीम मूर्ति बनाने वाले कारीगरों के पास पहुंची और उनसे जाना कि इस बार क्या खास है उनकी मूर्तियां में, उनकी बनावट और गणेश चतुर्थी पर मूर्तियां बनाने के लिए उनको किस तरह का ऑर्डर मिल रहा है.

कारीगरों का कहना है कि इस बार गणेश जी की मूर्तियों की बड़ी डिमांड है. ग्राहक बड़ी संख्या में मूर्ति खरीदने आ रहे हैं. इस बार जो मूर्तियां बनाई जा रही हैं. उनमें मिट्टी का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है. दरअसल मिट्टी की जो मूर्तियां बनाई जाती हैं उनमें फिनिशिंग नहीं आती है इसलिए इस बार पीओपी और जूट को मिक्स कर मूर्तियां बनाई जा रही हैं. मूर्तियों को रंग-बिरंगे ढंग से सजाया जा रहा है.

5 महीने पहले शुरू हो जाता है काम

मूर्ति कलाकारों का कहना है कि पीओपी और जूट मिक्स मूर्तियों को 5 महीने पहले से ही बनाने का काम शुरू कर दिया जाता है. बरसात के दिनों में मूर्तियां नहीं बनाई जा सकती हैं इसलिए 3 महीने पहले ही मूर्तियों को बनाकर रख लिया जाता है. जैसे ही त्योहार नजदीक आता है तो इन मूर्तियों को रंगों से सजा कर तैयार कर दिया जाता है.

11 हजार तक की मूर्तियां

जब पैसे को लेकर घरेलू झांकी के आकार की प्रतिमाओं के कारीगरों से बात की गई तो उनका कहना था कि इस बार ₹40 से लेकर 11,000 तक की मूर्तियां मार्केट में हैं. कारीगरों का कहना है कि मूर्तियों की बुकिंग शुरू हो गई है. लोग आकर मूर्ति खरीद रहे हैं. गणेश चतुर्थी के लिए पूरी तरह से हम लोग तैयार हैं.

Tags: Ganesh Chaturthi



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here