Gorakhpur assembly seat profile from cm yogi will contest up election 2022 upns

0
25


गोरखपुर. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election) का बिगुल बज गया है. भाजपा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को गोरखपुर शहर से उम्मीदवार बनाया है. बीजेपी के यूपी चुनाव प्रभारी और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने शनिवार को इस बात का ऐलान किया. अब इस घोषणा के बाद सीएम योगी के अयोध्या से चुनाव लड़ने की खबरों पर विराम लग गया है. ऐसे में वर्तमान विधायक डॉ राधा मोहन दास अग्रवाल का टिकट कट गया है. अगर बात 2017 के विधानसभा चुनाव की करें तो गोरखपुर मंडल की 28 सीटों में से 23 पर बीजेपी का कब्जा रहा है. सीएम योगी आदित्यनाथ का गृह मंडल होने की वजह से पार्टी और सरकार की प्रतिष्ठा दांव पर है.

गोरखपुर सदर विधानसभा सीट पर पिछले 33 सालों से भगवा का कब्‍जा है. इन 33 सालों में कुल 8 चुनाव हुए जिनमें से 7 बार बीजेपी और एक बार हिन्‍दू महासभा (योगी आदित्‍यनाथ के समर्थन से) के उम्‍मीदवार ने जीत हासिल की. वर्ष 2002 में इस सीट से डॉ राधा मोहन दास अग्रवाल हिन्‍दू महासभा के बैनर तले जीते लेकिन जीतने के बाद ही वह बीजेपी में शामिल हो गए. और वह तब से ही लगातार इस सीट से जीतते आ रहे हैं.

गोरखपुर शहर सीट का रुझान
बता दें कि 2017 चुनाव में गोरखपुर शहर सीट पर बीजेपी उम्मीदवार राधामोहन दास अग्रवाल ने कांग्रेस प्रत्याशी राना राहुल सिंह को 60730 वोटों से हराया था. जबकि 2012 के विधानसभा चुनाव के दौरान गोरखपुर शहर की सीट बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी उम्मीदवार राधामोहन दास अग्रवाल ने एसपी प्रत्याशी राजकुमारी देवी को 47454 वोटों से हराया था.

गोरखनाथ मंदिर और गीता प्रेस गोरखपुर की पहचान
गोरखपुर रेलवे स्टेशन से महज चार किलोमीटर की दूरी पर नेपाल रोड पर स्थित है ‘बाबा गोरखनाथ मंदिर’. नाथ संप्रदाय के संस्थापक परम सिद्ध गुरु गोरखनाथ का अत्यंत सुंदर और भव्य मंदिर न सिर्फ आस्था के लिहाज से बल्कि पयर्टकों के लिए मुख्य आकर्षण का केंद्र है. बाबा गोरखनाथ के नाम पर ही गोरखपुर का नाम पड़ा है. अगर गोरखपुर का नाम लिया जाए, तो जुबां पर गीता प्रेस न आए ऐसा भला कैसे हो सकता है. महाभारत, रामायण, आरती की किताबों से लेकर पुराने हिंदू ग्रंथों के प्रकाशन के लिए गीता प्रेस जाना जाता है.

जानिए जातीय समीकरण
दरअसल, गोरखपुर मंडल में सीटवार मुस्लिम-यादव, निषाद, सैंथवार, ब्राह्मण, पाल व ठाकुर जैसे जातीय समीकरण भी हैं, जो हर एक सीट पर असर दिखाते हैं. वहीं यूपी की राजनीति में ब्राह्मणों का वर्चस्व हमेशा से रहा है. प्रदेश में करीब 13 फीसदी ब्राह्मण आबादी है. कई विधानसभा सीटों पर 20 फीसदी से अधिक वोटर ब्राह्मण हैं. ऐसे में हर पार्टी की नजर इस वोट बैंक पर टिकी है. गौरतलब है कि यूपी में 7 चरणों में 7 फरवरी से लेकर 10 मार्च तक मतदान होने हैं. वहीं, चुनाव के नतीजे 10 मार्च को घोषित किए जाएंगे.

आपके शहर से (लखनऊ)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: BJP, CM Yogi, CM Yogi Aditya Nath, Gorakhnath Temple, Gorakhpur city news, Gorakhpur news, Samajwadi party, UP Assembly Election 2022, UP Election 2022, UP politics, गोरखपुर



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here