Handicraft : सहारनपुर में विदेशी लकड़ी से बन रहे ये खास ‘मंदिर’, विदेश से भी मिल रहे ऑर्डर

0
11


रिपोर्ट – निखिल त्यागी

सहारनपुर: पाइन एमडीएफ (Pine MDF) नाम की लकड़ी न्यूजीलैंड में पाई जाती है. यह लकड़ी इंपोर्ट के द्वारा दिल्ली मुंबई जैसे बड़े शहरों में लाई जाती है. दिल्ली से लकड़ी लाकर सहारनपुर में बनी एक हैंडीक्राफ्ट फैक्ट्री में कंप्यूटराइज डिजाइनिंग करवाई जाती है. नई मशीनें द्वारा कटिंग कर के अलग-अलग पार्ट करे जाते हैं. फिर उन सब पार्ट्स को हाथों द्वारा आपस में जोड़कर मंदिर तैयार किया जाता है.

सहारनपुर में सुमित पिछले 3 साल से वुडन हैंडीक्राफ्ट बिजनेस में हैं. वह लकड़ी के मंदिर बनाते हैं. जैसे केदारनाथ का मंदिर, बद्रीनाथ का मंदिर, राम मंदिर, जय अंबे मंदिर, द्वारकाधीश का मंदिर इस तरह के मंदिर के शोपीस बनाते हैं. सुमित ने बताया पाइन एमडीएफ नाम की है, यह लकड़ी न्यूजीलैंड से आती है. सुमित ने अपना बिजनेस शादी के कार्ड लकड़ी से बनाने के आइडिया के साथ स्टार्ट किया था और धीरे धीरे उसको बढ़ाया. आज इनकी फैक्ट्री में डिज़ाइन, प्रोडक्शन और मार्केटिंग टीम से जुड़े 50-60 वर्कर्स हैं.

कैसे बनाते हैं लकड़ी का मंदिर?

सुमित ने बताया उनके पास जब भी किसी भी तरह के स्ट्रक्चर की डिमांड आती है. उसका वह एक मॉडल तैयार करते हैं और यूनीक तरीके का हैंडीक्राफ्ट अपनी फैक्ट्री में बनाते हैं. उस स्ट्रक्चटर को वर्कर्स के हाथों से ही बनाते हैं. मशीन से सिर्फ लकड़ी की डिजाइनिंग और कटिंग की जाती है. उसके बाद उन पार्ट्स को जोड़ने का काम हाथ से होता है. सुमित ने बताया हम जो प्रोडक्ट बना रहे हैं, वह मेक इन इंडिया को मद्देनज़र रखते हुए बना रहे हैं. हम चाहते हैं कि हमारी संस्कृति की पहचान पूरी दुनिया में हो.

सुमित के मुताबिक ताजमहल का एक सैंपल मॉडल बनवाकर पेरिस के एक होटल में भिजवाया था. वह सैंपल वहां के लोगों को बहुत पसंद आया. पेरिस से ऑडर भी मिले. सुमित यह चाहते हैं कि वह अलग अलग देशों में अपना माल भिजवाएं और अपनी भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ाएं. अगर आप भी इन बेहतरीन शोपीस के लिए बुकिंग करना चाहते हैं तो फैक्ट्री के नंबर 8630030511 पर संपर्क कर सकते हैं.

Tags: Artifacts, Saharanpur news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here