Himachal Ravana Dahan will be held in Shimla Jakhu Temple NODBK

0
16


मंदिर परिसर में पुतले बनाने की तैयारी करते कारीगर.

जाखू मंदिर के प्रबंधक मदन शर्मा (Madan Sharma) ने बताया कि कोरोना वायरस के बीच इस बार भी सूक्ष्म तरीके से दशहरा पर्व का आयोजन किया जा रहा है. इसके लिए मंदिर परिसर के भीतर दर्शन करने के लिए नो मास्क नो दर्शन अभियान भी चलाया जाएगा.

शिमला. कोरोना वायरस (corona virus) के बीच इस बार दशहरा पर्व (Dussehra Festival) धूमधाम के साथ मनाया जाएगा. शिमला के जाखू मंदिर (Jakhu Temple) में भी इस बार दशहरा पर्व मनाया जा रहा है. इसके लिए प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर दी हैं. दशहरा पर्व के मौके पर रावण, कुम्भकर्ण और मेघनाथ के पुतले जलाए जाएंगे. लेकिन इस बार पुतलों का आकार और ऊंचाई कम कर दिए गए हैं. जाखू मंदिर परिसर में पुतला दहन (Effigy Burning) कार्यक्रम के लिये अभी फिलहाल आधिकारिक अतिथि की घोषणा नहीं की गई है. इस बार पुतलों की ऊंचाई 25 से 30 फ़ीट की होगी जबकि इन पुतलों को बनाने वाले कलाकार भी स्थानीय फाइन आर्ट कॉलेज शिमला के छात्र हैं.

जाखू मंदिर के प्रबंधक मदन शर्मा ने बताया कि कोरोना वायरस के बीच इस बार भी सूक्ष्म तरीके से दशहरा पर्व का आयोजन किया जा रहा है. इसके लिए मंदिर परिसर के भीतर दर्शन करने के लिए नो मास्क नो दर्शन अभियान भी चलाया जाएगा. उन्होंने कहा कि इसके अलावा प्रशासन ने इस बार विशेष टीकाकरण अभियान भी चलाया है. जिन व्यक्तियों ने कोरोना का टीका नहीं लगाया है वे टीका लगा सकते हैं. यदि कोई दूसरा टीका लगाना चाहता है और 84 दिनों की अवधि पूरी कर चुके है तो वे भी कोरोना का दूसरा टीका लगवा सकते हैं. इसके अलावा थर्मल स्क्रीनिंग के तहत तापमान भी जांचा जाएगा.

पुतले पर पेंटिग व चेहरा बनाने का काम अभी बाकी है
बता दें कि कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले करीब डेढ़ साल से सार्वजनिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगा हुआ है. इस वजह से न रामलीला का मंचन हुआ और न ही रावण के पुतले जले. लेकिन कोरोना संक्रमण का खतरा कम हुआ तो अब फिर से धार्मिक सार्वजनिक कार्यक्रम भी पटरी पर लौट रहे हैं. उधर, शिमला के बालूगंज मैदान में दशहरा पर्व पर 50 फुट ऊंचे रावण के पुतले का दहन किया जाएगा. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए लोगों को शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करने, मास्क लगाने से लेकर पहली बार मंदिर परिसर में वैक्सीनेशन की सुविधा भी दी जा रही है. जाखू में जलने वाले रावण के पुतले को अभी अंतिम रूप दिया जा रहा है. इसका ढांचा तैयार हो चुका है. पुतले पर पेंटिग व चेहरा बनाने का काम अभी बाकी है. इनके अंदर आतिशबाजी का सामान भी लगाया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here