Hospital workers kept bargaining for money, newborn died in mother’s womb | अस्पतालकर्मी पैसों की सौदेबाजी करते रहे, मां की कोख में नवजात की हुई मौत

0
34


गढ़वा7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • 15 सौ रुपए लेने के बाद एएनएम ने कराया प्रसव, तब तक बच्चे की मौत हो चुकी थी

सदर अस्पताल में बुधवार को मानवता को शर्मसार करने वाली घटना प्रकाश में आया है। घटना मंगलवार की शाम की है। जहां एएनएम पूजा कुमारी ने प्रसव पीड़ा से तड़पती हुई महिला को पैसे लेने के नाम पर इलाज में देरी की। इससे गर्भ में ही पीड़ित की बच्चे की मौत हो गई। बाद में महिला ने सदर अस्पताल में मरे हुए बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद मृत शव को दफनाने के नाम पर भी पैसे लिए गए।

जानकारी के अनुसार कांडी थाना क्षेत्र के लमारी खुर्द गांव निवासी सुनील पासवान की पत्नी संगीता देवी को प्रसव के लिए सदर अस्पताल लाया गया था। उसे मंगलवार की शाम 5 बजे सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन ड्यूटी में मौजूद पूजा कुमारी ने प्रसव कराने के नाम पर तीन हजार की मांग की प्रस्तुता के परिजनों ने गरीबी का हवाला देते हुए पैसा देने में असमर्थता जताई।

नवजात का शव दफनाने के नाम पर 50-50 रुपए सफाई कर्मी भी लिए
सदर अस्पताल में जीएनएम की जगह एनएम है कार्यरत: सदर अस्पताल के प्रसव कक्ष में पिछले 1 वर्ष से जीएनएम की जगह एएनएम कार्यरत हैं। उसके वजह से अक्सर प्रसव में लापरवाही का मामला सामने आता रहता है। बताते चलें कि सदर अस्पताल के प्रसव कक्ष में जीएनएम की पोस्टिंग होती है। पर पिछले 1 वर्ष से अस्पताल प्रबंधन की मिलीभगत से एएनएम और आउटसोर्सिंग कर्मचारी को प्रसव कक्ष में प्रसव कराने के लिए लगाया गया है। ऐसे में आए दिन प्रसव के दौरान लापरवाही का मामला सामने आ रहा है।

सिविल सर्जन बोले : इस संबंध में सिविल सर्जन कमलेश कुमार ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है। जानकारी मिलने के बाद एएनएम पूजा कुमारी को तत्काल कार्य से हटा दिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

एएनएम पूजा कुमारी ने कहा : पैसा लेने का आरोप सरासर गलत है। उसने किसी तरह की पैसे की मांग नहीं की है। बच्चे की मौत मां के गर्भ में कुछ दिन पूर्व ही हो गया था। बच्चा का पूरा शव सिकुड़ा हुआ था। उससे बदबू भी आ रही थी।

इस दौरान महिला प्रसव पीड़ा से तड़पती रही। बाद में 15 सो रुपये में प्रसव कराने का सौदा तय हुआ। इसके बाद शाम 6:15 बजे महिला ने मरे हुए बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद भी प्रस्तुता के परिजनों की परेशानी कम नहीं हुई मृत नवजात के शव को दफनाने के नाम पर 50 -50 रुपए सफाई कर्मियों द्वारा भी लिया गया।

इस संबंध में प्रसूता के परिजन चिंता देवी ने बताया कि अगर समय पर इलाज शुरू हो जाता तो बच्चे की मौत नहीं होती। उसने बताया कि करीब 1 घंटे तक वह पीड़ित दर्द से तड़पती रही। जबकि उसने कहा कि मेरे साथ आए सहिया फुला देवी के द्वारा सौदेबाजी कराकर 1500 रुपये में तय किया। तब एएनएम पूजा ने पैसा लेकर प्रसव कराया जहां महिला ने मृत बच्चे को जन्म दिया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here