Hundreds JNU Students Are Corona Positive, Demand Of VS Resignation जेएनयू में सैकड़ों छात्र हुए कोरोना पॉजिटिव, वीसी से इस्तीफे की मांग

0
17


कोरोना के दौरान भी विश्वविद्यालय में अपने प्रोजेक्ट पर काम कर रहे छात्रों ने जुनटा की सहमति से विश्वविद्यालय में व्यापक कोविड केयर प्लान बनाने की अपील की थी.

<!—
—>

अब तक 280 से ज्यादा छात्र और शिक्षक हो चुके हैं कोरोना संक्रमित. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • जेएनयू में अभी तक 280 से अधिक छात्र व अध्यापक शिक्षक कोरोना पॉजिटिव
  • वीसी को शिक्षक संघ ने भेजा प्रस्ताव, लेकिन कोई निर्णय नहीं लिया गया
  • परिसर में ही आइसोलेशन सेंटर बनाने की मांग, जहां हों सभी सुविधाएं

नई दिल्ली:

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में बड़ी संख्या में छात्र व कुछ शिक्षक कोरोना पॉजिटिव हुए हैं. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी टीचर एसोसिएशन (जुनटा) ने विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग की है कि विश्वविद्यालय के गेस्टहाउस को तुरंत आइसोलेशन सेंटर में तब्दील किया जाए. टीचर्स एसोसिएशन ने आरोप लगाया है कि कोरोना (Corona Virus) की रोकथाम व उपचार के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने पर्याप्त कदम नहीं उठाए, इसलिए विश्वविद्यालय के कार्यकारी कुलपति को अपने पद से तुरंत इस्तीफा देना चाहिए. गौरतलब है कि जेएनयू में अभी तक 280 से अधिक छात्र व अध्यापक शिक्षक कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं.

कुलपति हैं अनिर्णय का शिकार
जुनटा की सचिव मौसमी बसु ने कहा बताया विश्वविद्यालय प्रशासन को कोविड सुविधाओं के संबंध में दो प्रपोजल दिए गए. यह प्रपोजल कुलपति एम. जगदीश कुमार के पास मौजूद हैं, लेकिन उन्होंने इन पर अभी तक अपनी सहमति नहीं दी. कोरोना के दौरान भी विश्वविद्यालय में अपने प्रोजेक्ट पर काम कर रहे छात्रों ने जुनटा की सहमति से विश्वविद्यालय में व्यापक कोविड केयर प्लान बनाने की अपील की थी. इसके तहत विश्वविद्यालय के गेस्ट हाउस को आइसोलेशन सेंटर में तब्दील करने की मांग की गई थी, लेकिन विश्वविद्यालय के पॉजिटिव हुए छात्रों को सुल्तानपुरी स्थित एक आइसोलेशन सेंटर में रखा गया है.

यह भी पढ़ेंः 24 घंटों में कोरोना के 4.13 लाख नए केस, 3980 मौतें हुई

आइसोलेशन सेंटर में बदहाली का आलम
मौसमी बसु ने एक लिखित शिकायत में कहा कि सुल्तानपुर स्थित आइसोलेशन सेंटर से छात्रों ने तस्वीरें और वीडियो भेजे हैं, जिन्हें देखकर पता लगता है कि इस आइसोलेशन सेंटर में टॉयलेट बेहद गंदे हैं. खुले में कूड़ा पड़ा हुआ है. बिस्तर व बेडशीट गंदी होने के बावजूद बदली नहीं गए. आइसोलेशन सेंटर में गंदगी व असुरक्षित माहौल है. इतना ही नहीं शिक्षकों ने अपने घर से खाने के पैकेट, ड्राई फ्रूट, फल व दुग्ध उत्पाद इन कोरोना पॉजिटिव छात्रों के लिए भिजवाए. 

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर पर कोई निर्णय नहीं
शिक्षक संघ ने जानकारी देते हुए बताया कि विदेश स्थित एक विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय को 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर देने के लिए तैयार था, लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस पर भी कोई निर्णय नहीं लिया. विश्वविद्यालय के भीतर कोई कोरोना फैसिलिटी सेंटर भी तैयार नहीं किया गया. बार-बार कहने के बावजूद छात्रों व स्टाफ की सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं किया गया. शिक्षक चाहते हैं कि ऐसी स्थिति में अब कार्यकारी वाइस चांसलर को तुरंत अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए.



संबंधित लेख

First Published : 06 May 2021, 06:51:55 AM


For all the Latest Education News, University and College News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here