Jhansi news: ‘किडनी में नहीं थी पथरी, डॉक्टर ऑपरेशन का दबाव बनाते रहे’, मरीज के गंभीर आरोप

0
11


रिपोर्ट- शाश्वत सिंह

उत्तर प्रदेश के झांसी में एक मरीज़ ने डॉक्टर पर किडनी चोरी की साजिश और फर्जी सर्जरी करने की कोशिश का आरोप लगाया है. झांसी के गुरसराय ब्लॉक के व्यापारी राम बिलैया ने झांसी के नामचीन डॉक्टर मनीष जैन पर गम्भीर आरोप लगाए हैं. झांसी कलेक्ट्रेट में न्यूज 18 लोकल से बात करते हुए उन्होंने बताया कि डॉ. मनीष जैन ने उन्हें एक ऐसे ऑपरेशन की सलाह दी जिसकी आवश्यकता ही नहीं थी.

डॉक्टर ने सर्जरी करवाने का बनाया दबाव
राम बिलैया ने बताया कि 23 अक्टूबर की रात उनके पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द उठा. दर्द असहनीय हो जाने पर वह झांसी के बुंदेलखंड सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में इलाज करवाने के लिए पहुंचे. वहां डॉक्टर ने उनकी जांच के बाद कुछ दवाएं दीं जिससे दर्द कम हो गया. वहां मौजूद डॉक्टर बुंदेला ने उन्हें किसी किडनी के डॉक्टर को दिखाने की सलाह दी. इसके बाद राम बिलैया डॉ. मनीष जैन को दिखाने के लिए आनंद हॉस्पिटल पहुंचे.

वहां डॉ जैन ने उनके कई टेस्ट करवाए. टेस्ट रिपोर्ट देखने के बाद डॉक्टर जैन ने उन्हें बताया कि किडनी में 6 मिमी की पथरी है. इस पथरी की वजह से उनकी किडनी में इंफेक्शन फैलता जा रहा है. अगर तुरंत सर्जरी नहीं की गई तो डायलिसिस की नौबत आ सकती है और शायद किडनी भी निकालनी पड़ेगी. राम बिलैया ने कुछ दिन का समय मांगा लेकिन डॉक्टर तुरंत सर्जरी करवाने के लिए जोर देते रहे.

2 दिन बाद नहीं निकली पथरी
किसी तरह से डॉक्टर जैन ने 2 दिन का समय दिया. इसके बाद राम बिलैया 26 अक्टूबर को ग्वालियर के अपोलो अस्पताल में इलाज करवाने के लिए पहुंचे. वहां उन्होंने अपनी सारी रिपोर्ट दिखाई जिनके आधार पर झांसी के डॉ. जैन पथरी होने का दावा कर रहे थे और ऑपरेशन की बात कह रहे थे. ग्वालियर के डॉक्टरों ने वहां कुछ और टेस्ट करवाए. इसके बाद वहां के डॉक्टरों ने राम बिलैया को बताया कि उनकी किडनी में कोई पथरी है ही नहीं. यह सुनकर उन्हें झटका लगा.

बेबुनियाद हैं सभी आरोप
इस मामले में डॉ मनीष जैन ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि उन पर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं. उन्होंने जो भी सलाह दी थी वह अपने मेडिकल के ज्ञान और अनुभव के आधार पर दी थी. मरीज जब उनके पास पहुंचा था तो स्थिति वाकई गंभीर थी. इस वजह से ही उन्होंने सर्जरी की सलाह दी थी.

इस पूरे मामले पर एसीएमओ डॉ. अजय भाले ने कहा कि फिलहाल उन्होंने सभी रिपोर्ट नहीं देखी है. लेकिन मरीज और डॉक्टर के बयान से जो बात समझ में आती है उसमें ऐसा लगता है कि शायद 2 दिन तक दवाई खाने की वजह से राम बिलैया की पथरी निकल गई हो. हालांकि इसकी पुष्टि सभी रिपोर्ट्स को देखने के बाद ही की जा सकती है.

पहले भी लग चुका है किडनी निकालने का आरोप
आपको बता दें कि, कुछ साल पहले भी डॉ. मनीष जैन पर एक किशोर की किडनी निकालने का आरोप लगा था. परिवार ने उस समय आरोप लगाया था की इलाज के दौरान डॉक्टर जैन ने किशोर की किडनी निकाल ली थी और इस मामले में जिलाधिकारी से शिकायत भी की थी.

Tags: Jhansi news, Kidney disease, Up news in hindi



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here