Know why the wireless exhibition at the Science Festival became special for the people – News18 हिंदी

0
116


मेरठ:-सोचो अगर बिना वायर wire के ही आपके घर बिजली Electric पहुचं जाए.किसी भी प्रकार की वायरिंग का उपयोग ना हो.इतना ही नहीं शार्ट सर्किट के माध्यम से लगने वाली बड़ी-बड़ी आग का भी डर ना हो तो कितना फायदा होगा.इसी सपने को पूरा करने के लिए चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय CCSU परिसर में संचालित फिजिक्स डिपार्टमेंट Physics department के छात्र-छात्राएं दिन-रात कार्य में लगे हुए हैं.जिसकी वानगी सीसीएसयू साइंस फेस्टिवल science festival में लगी प्रदर्शनी में देखने को मिली.छात्र-छात्राओं ने अपने इसी मॉडल को उस प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया.जिसके बाद जो भी प्रदर्शनी को देखने गया था.इस मॉडल का कायल हो गया.माॅडल की प्रत्येक जानकारी को जानने के लिए उसी कैम्प पर रुक गया.

टेस्ला कॉइल के माध्यम से बनाई बिजली पहुंचाने के लिए छात्र कर रहे कार्य
सीसीएसयू फिजिक्स डिपार्टमेंट के छात्र-छात्राएं टेस्ला कॉइल tasla coil पर रिसर्च कर रहे हैं.ताकि ऐसे क्षेत्र जहाँ पर बिजली के तार नहीं पहुँच सकते वहाँ पर बिजली आपूर्ति की जा सके.इसी को लेकर छात्रों द्वारा एक मॉडल भी प्रदर्शित किया गया था.जिसके माध्यम से उन्होंने दर्शाया कि आखिर किस प्रकार टेक्स्ला कॉइल के माध्यम से बड़े-बड़े ट्रांसफार्मर रखकर बिना वायरिंग के भी बिजली को पहुंचाया जा सकता है.

स्टार्टअप योजना से छात्र करना चाहते हैं सपने को पूरा
छात्रों का कहना है कि अभी इसमें रिसर्च चल रहा है.छोटे स्तर पर इस मॉडल को प्रदर्शित किया गया है.वह कामयाब है.लेकिन बड़े स्तर पर इसे किस तरीके से पहुंचाया जा सके.उसके लिए फंड की आवश्यकता है.ऐसे में विश्वविद्यालय द्वारा स्टार्टअप नीति के तहत ऐसे मॉडलों को आगे पहुंचाने के लिए एक पहल की गयी है.उसका उपयोग करते हुए अपने इस प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाना चाहते हैं.
बताते चलें कि निकोला टेस्ला नामक वैज्ञानिक ने इस फार्मूले की खोज की थी.लेकिन किसी कारणवश प्रोजेक्ट आगे नहीं बढ़ पाया. इस प्रोजेक्ट पर अन्य वैज्ञानिकों द्वारा भी कार्य किया जा रहा है.इसी कड़ी में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के छात्र भी इस रिसर्च के साथ आगे बढ़ रहे हैं.यह एक ऐसा प्रोजेक्ट है.जिसके अंदर बिना तार के बिजली एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंच सकती है.अगर इस माॅडल की बात करें तो कॉइल के अंदर तेजी से इलेक्ट्रिसिटी को ऑन ऑफ कराया जाता है.जिससे पास में रखी दूसरी ट्यूबलाइट के अंदर विद्युत चुंबक की वजह से हाई वोल्टेज जनरेट होता है.अर्थात बिना तार के आपका ट्यूबलाइट के साथ अन्य उपकरण भी चालू होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं.

रिपोर्ट:-विशाल भटनागर मेरठ

आपके शहर से (मेरठ)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Meerut news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here