Local Food: मुल्तानी छोले-चावल खाने लोग मुरादाबाद आते हैं, इस बेजोड़ स्वाद का सीक्रेट जानते हैं आप?

0
10


रिपोर्ट – पीयूष शर्मा

मुरादाबाद. वैसे तो पूरी दुनिया में पीतल नगरी के नाम से यह शहर मशहूर है. बात अगर खाने की हो तो मुरादाबाद के गुरहट्टी पर सालों पुरानी मुल्तानी छोले चावल की एक दुकान ध्यान इसलिए खींचती है क्योंकि यहां सुबह से शाम तक भीड़ कम होने का नाम नहीं लेती. सुबह 10 बजे खुलकर शाम 5 बजे बंद होने वाली इस दुकान पर लगातार ग्राहकी का बड़ा कारण यहां का जायका ही है. आसपास के शहरों व जिले के कोने-कोने से लोग मुल्तानी छोले चावल खाने यहां आते हैं. स्थानीय लोग तो इस स्वाद के दीवाने हैं ही.

इस दुकान की शुरुआत ठाकुरदास गुरु जी ने 30 साल पहले की थी. फिर गुरु जी का देहांत के बाद उनके शिष्य टीकाराम यादव ने इस काम को संभाला और आगे बढ़ाया था. करीब 30 साल बीत जाने के बाद अब टीकाराम और उनके पुत्र नीरज यादव दोनों मिलकर दुकान चलाते हैं. टीकाराम के मुताबिक यह पंजाबी रेसिपी है इसलिए नाम मुल्तानी छोले चावल है. उनके गुरु चूंकि पाकिस्तान के मुल्तान के रहने वाले थे इसलिए ये नाम दिया गया. इस दुकान पर मुल्तानी छोले चावल के साथ-साथ कढ़ी चावल, मूंग चावल भी फिक्स रेट पर मिलते हैं.

क्या है इस बेजोड़ जायके का सीक्रेट?

टीकाराम बताते हैं कि वे मार्केट से साबुत मसाले खरीदते हैं. उसके बाद उन्हें घर पर तैयार करवाकर रेसिपी तैयार करते हैं और यही उनके छोले के स्वाद का सीक्रेट है. साथ ही वह मुल्तानी छोले चावल को तैयार करने के लिए टमाटर और अनार दाने की चटनी, मेथी, पालक, पनीर, देसी घी, प्याज सहित अमचूर का इस्तेमाल करते हैं. इस दुकान पर मुल्तानी छोले चावल खाने की खास बात यह है की यहां निशुल्क सूप दिया जाता है. जो बेहद स्वादिष्ट होता है. यह सूप चने और हींग का मिश्रण कर बनाया जाता है. जिसको ग्राहक काफी पसंद करते हैं. साथी ही स्वास्थ्य के लिए हींग लाभदायक भी होता है.

क्या है कीमत और शौकीनों का रिएक्शन?

नीरज यादव ने न्यूज़ 18 लोकल को बताया कि गरीबों के लिए तो मुल्तानी छोले चावल का कोई रेट नहीं है. वैसे आम तौर पर सबसे छोटी प्लेट 35 रुपये की दी जाती है. दुकान पर मुल्तानी छोले चावल खाने आए इमरान ने बताया हम करीब 10 साल से यह स्वाद ले रहे हैं. इनका टेस्ट काफी मशहूर भी है. हम भी रामपुर के शाहाबाद से इनके मुल्तानी छोले चावल खाने के लिए आए हैं. हमने एक बार अपने मित्र के साथ यहां छोले चावल खाए थे.

Tags: Moradabad News, Street Food



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here