Lucknow: अहिरावण की पाताल लोक खोजने वाले वैज्ञानिक जाएंगे अमेरिका

0
13


रिपोर्ट: अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ: रामायण में वर्णित रावण के भाई अहिरावण जिसने राम लक्ष्मण का अपहरण करके अपने पाताल लोक ले जाकर देवी को उनकी बलि देनी चाही थी. लेकिन राम भक्त हनुमान ने पहुंचकर अहिरावण को मार दिया था और अपने पुत्र मकरध्वज को यह श्रीराम द्वारा पातालपुरी दिलवा दी थी. यह जो पाताल लोक था सेंट्रल अमेरिका के होंडुरास के जंगल में होने की पुष्टि लखनऊ के स्कूल ऑफ मैनेजमेंट साइंसेज के निदेशक प्रोफेसर भरत राज सिंह ने 2015 और 2016 में की थी. तब यह मामला बहुत चर्चित भी रहा था. इसके बाद अमेरिका के कई वैज्ञानिकों ने माना कि सेंट्रल अमेरिका के होंडुरास में एक जंगल है. वहां पर आदिवासी मंकी गॉड की पूजा करते हैं. यही नहीं अमेरिकी खोजकर्ता, थियोडोर मोर्डे ने 1940 में यही बात कही थी. उन्होंने एक अमेरिकी पत्रिका में भी यही दावा किया था कि यहां पर लोग मंकी गॉड की पूजा करते हैं. हालांकि बाद में खोजकर्ता की संदिग्ध परिस्थितियों में गायब होने की खबर आई जिसने 4 साल इन्हीं जंगलों में गुजारे थे.

प्रोफेसर भरत राज सिंह ने बंगाली रामायण में यह पाया कि जब अहिरावण राम लक्ष्मण को लेकर के पाताल लोक जाता है बलि देने के लिए तो हनुमान 70 हजार योजन को पार करके सुरंग के जरिए पाताल लोक पहुंचते हैं और जिस सुरंग के जरिए पाताल लोक पहुंचते हैं वह मध्य प्रदेश में है. मध्य प्रदेश में जंगल है जिसे पाताल लोक का जंगल कहा जाता है और यहीं एक सुरंग है जिसके जरिए राम भक्त हनुमान पाताल लोक पहुंचे थे. इसी 70 हजार योजन के मुताबिक जब उन्होंने पृथ्वी की मोटाई नापी और मध्य प्रदेश के इसी भाग से सीधा रिसर्च करके देखा तो यह पूरा किलोमीटर सेंट्रल अमेरिका के होंडुरास के मस्कीटिया तक ही जाता है और वहीं पाताल लोक है.

अमेरिका जाकर आगे बढ़ाएंगे रिसर्च
प्रोफेसर भरत राज सिंह ने बताया कि अमेरिका ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी और नेशनल सेंटर फॉर एयर बोर्न लेजर मैपिंग के वैज्ञानिकों ने होंडुरास के जंगलों में लाइडर तकनीक के जरिए जमीन के नीचे 3डी मैपिंग की थी जिसमें पाया था कि कई मंदिर और बंदरों की मूर्तियों के अवशेष हैं. उन्होंने बताया कि होंडुरास कहीं पहले हिंदू राष्ट्र तो नहीं था? इन सब का पता लगाने के लिए वे अमेरिका जाएंगे और वहां की सरकार से भी एक बार अपील करेंगे कि यहां की खुदाई दोबारा की जाए.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 07, 2022, 14:16 IST



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here