Mathura News: डेढ़ घंटे तक बिना पलक झपकाए सूरज को निहारता रहा बुजुर्ग, बनाया नया रिकॉर्ड

0
51


मथुरा. कान्हा की नगरी में एक बार फिर लगन व शक्ति का नया रिकॉर्ड इंडिया बुक (India Record Book) में दर्ज हुआ. सूर्य को बिना पालक झपकाए निहारने का यह नया रिकॉर्ड 70 वर्षीय महेंद्र सिंह वर्मा (Mahendra Singh Verma)  ने बनाया. पिछला रिकॉर्ड भी महेंद्र सिंह वर्मा के ही नाम था. अपना ही रिकॉर्ड तोड़ते हुए महेंद्र वर्मा ने सूर्य को टकटकी निगाहों से बिना पलक झपकाए 1 घंटे 26 मिनट तक देखा. इस दौरान इंडिया बुक रिकॉर्ड की और से भानूप्रताप, पूर्व विधायक प्रदीप माथुर, कोऑर्डिनेटर प्रेरणा शर्मा, अध्यापिका उषा शर्मा, टिजिल चौधरी, इन्द्रजीत, निधि सिंह भी इस रिकॉर्ड के साक्षी रहे.

आमतौर पर सूर्य को टकटकी लगाकर बिना चश्मा लगाए देखने को मना किया जाता है, क्योंकि सूर्य की किरणों से आंखों के खराब होने की संभावना ज्यादा होती है. लेकिन सूर्य को बगैर चश्मा लगाए और बिना पलक झपकाए देख रहे 70 वर्षीय यह शख्स महेंद्र वर्मा है, जिनका सूर्य को निहारने का सिलसिला जारी है और एक बार फिर इन्होंने एक रिकॉर्ड खुली आंखों से सूर्य को देखने का (त्राटक) 1 घंटे 26 मिनिट का बना डाला है.

सूरज से आंख मिलाने की अपनी एक कला
महेंद्र सिंह वर्मा मथुरा गोवर्धन चौराहा स्थित आनंद लोक कॉलोनी के रहने वाले हैं और पूर्व में सेल टैक्स विभाग में डिप्टी कमिश्नर के पद पर कार्यरत थे. महेंद्र सिंह वर्मा ने 21 साल की उम्र में अपने गुरु बालमुकुंद महाराज से यह प्रेरणा ली थी. महेंद्र वर्मा बताते हैं कि हर व्यक्ति में तीसरा नेत्र होता है. हर व्यक्ति सूरज से आंख मिला सकता है. पहले मैंने दीपक की लौ से आंख मिलाई फिर सूरज के सामने थोड़ी-थोड़ी देर आंख मिलाई. सूरज से आंख मिलाने की अपनी एक कला होती है जो हर किसी के पास नहीं होती. जिसे वह बताएंगे वही इसको कर सकता है. इसीलिए इतनी देर तक सूरज से आंख मिलाने या यूं कहें कि सूरज को निहारने का आत्मबल किसी को नहीं मिल पाया है और अभी तक यह रिकॉर्ड कुछ ही मिनटों का था, लेकिन वह सूरज को लगातार निहारते आए हैं और आज एक घंटा 26 मिनट तक उन्होंने सूर्य को निहारा है.

पूर्व विधायक प्रदीप माथुर ने कही ये बात
उधर इस रिकॉर्ड के गवाह के रूप में मौजूद पूर्व विधायक प्रदीप माथुर का कहना है कि वह महेंद्र सिंह वर्मा को काफी लंबे अरसे जानते हैं. वह एक अच्छे ज्योतिषाचार्य हैं और उनकी भविष्यवाणी पर ही उन्होंने राजनीति में एंट्री की थी. उनकी लगन की वजह से यह हठ योगी की तरह काम करते है ओर आज इस मुकाम पर पहुंचे हैं. आगे यह गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज कराएंगे. इसके लिए मैं इनको शुभकामना देता हूं.

महेंद्र सिंह वर्मा की आंखों पर कोई असर नहीं
एक घंटा 26 मिनट तक सूर्य को टकटकी लगा निहारने के बाद मौके पर मौजूद डॉक्टर्स की टीम ने महेंद्र वर्मा की आंखों का परीक्षण किया. परीक्षण के दौरान महेंद्र सिंह वर्मा बिना किसी तकलीफ के पढ़ लिख रहे थे और उनकी आंखों को डॉक्टर्स की टीम ने सही पाया. यह रिकॉर्ड अपने आप में एक अनूठा है. यह एक जुनून ही है. जब लोग सूरज को चश्मा लगाकर ज्यादा देर नहीं देख सकते उसे घंटों देखने का ऐसा जुनून अभी तक बहुत कम लोगों में दिखाई देता हैं. महेंद्र वर्मा का यही हठ योग उनको गिनीज बुक में रिकॉर्ड दर्ज करने के लिए प्रेरित कर रहा है. और यदि यही लगन व हठ रहा तो आने वाले दिनों में महेंद्र वर्मा का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज होगा.

आपके शहर से (मथुरा)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Mathura hindi news, Mathura news, UP latest news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here