Meerut: हॉकी एस्ट्रोटर्फ बनाने की धीमी रफ्तार बनी खिलाड़ियों के लिए मुसीबत, जानें वजह

0
31


रिपोर्ट- विशाल भटनागर

मेरठ. भले उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा खेल को प्राथमिकता देते हुए तीव्र गति से सभी कार्यों को किया जा रहा हो, लेकिन उसके बावजूद भी मेरठ में एस्ट्रोटर्फ बनाने की प्रणाली को लेकर काफी धीमी रफ्तार देखने को मिल रही है. 25 जून 2018 से शुरू हुआ यह कार्य अभी तक पूरा नहीं हो पाया है. इससे पहले 2 साल कोरोना वायरस ने ब्रेक लगाया था. उसके बाद बजट की राशि आने में विलंब हुआ. अब धीमी रफ्तार से निर्माण में देरी हो रही है. इस वजह से खिलाड़ियों को अनेकों दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है.

गौरतलब है कि जब मेरठ स्पोर्ट्स स्टेडियम में टर्फ का निर्माण कार्य शुरू हुआ था, तो खिलाड़ियों में काफी उत्साह था. हालांकि अब खिलाड़ियों में मायूसी देखने को मिल रही है. एस्ट्रोटर्फ बनकर तैयार ना होने के कारण खिलाड़ियों को अभी मैदान में ही प्रैक्टिस करनी पड़ रही है. खिलाड़ियों का कहना है कि जल्द से जल्द ही यह सब बन जाए तो अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानकों के अनुरूप यहां पर एक प्रशिक्षण ले पाएंगे. जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतर परफॉर्म पढ़ने में काफी सहायता मिलेगी.

जल्द मिलेगा खिलाड़ियों को तोहफा

NEWS 18 LOCAL से खास बातचीत करते हुए क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी योगेंद्र पाल सिंह ने बताया कि एस्ट्रोटर्फ लगभग बनकर तैयार हो चुका है. मानकों के अनुरूप दो कमी मिली है. कंपनी को उन कमियों के बारे में अवगत करा दिया गया है. ऐसे में जल्द ही कंपनी द्वारा उन कमियों को दूर कर दिया जाएगा. इसके बाद हॉकी के खिलाड़ियों को यहां पर खेलने का अवसर मिलेगा.

यह है टर्फ की खासियत

दरअसल अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार ही एस्ट्रोटर्फ को तैयार किया जा रहा है. एस्ट्रोटर्फ की बात की जाए तो यह ग्राउंड 101.40 मीटर लंबा है. मैदान की चौड़ाई 61 मीटर है. इसमें 6185.40 स्क्वायर मीटर मैदान को कवर किया गया है. हरे रंग का टर्फ यानी घास 5146.25 मीटर और लाल रंग का टर्फ 1233.57 स्क्वायर मीटर है. इसमें प्रदेश के 5 जिलों के खिलाड़ी आसानी से प्रैक्टिस कर पाएंगे.प रियोजना की लागत की बात की जाए तो 539.71 लाख है.

Tags: Hockey Astro Turf, Hockey News, Meerut news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here