Mirzapur में डेंगू के बढ़ते मामलों के बीच बकरी के दूध की बढ़ी डिमांड, डॉक्टरों ने दी जरूरी सलाह

0
17


रिपोर्ट: मंगला तिवारी

मिर्जापुर. उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में डेंगू के डंक ने अचानक से बकरी पालन उधोग को संजीवनी प्रदान कर दिया है. जिस बकरी के दूध को एक समय कोई पूछने वाला नहीं था. आज इतनी डिमांड बढ़ गई है कि लोगों को मिल नहीं रहा है. डिमांड में काफी इजाफा होने से बकरी के दूध की कीमत आसमान छू रही है. माना जाता है कि प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए बकरी का दूध फायदेमंद है, जबकि डॉक्टर इस बात से इनकार करते हैं.

इस समय वायरल बुखार, डेगूं के बढ़ते प्रकोप से लोग दहशत में हैं. डाक्टरों की परामर्श लेकर लोग स्वयं को स्वस्थ रखने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं. लोग हर उस उपाय को आजमा लेना चाहते हैं. जिससे इस बीमारी से उबरने की थोड़ी भी गुंजाइश हो. ऐसे में प्लेटलेट्स तेजी से बढ़ाने में सहायक माने जाने वाले विकल्पों की डिमांड में काफी इजाफा हुआ है. इसमें कुछ के वैज्ञानिक कारण हैं. तो कुछ मान्यताओं पर आधारित है. जिसमें बकरी का दूध, कच्चा पपीता और कीवी शामिल है. लोगों का मानना है कि बकरी के दूध का सेवन करने से डेंगू पीड़ितों का प्लेटलेट बढ़ने लगता है.

बकरी के दूध के लिए लगा पोस्टर
मरीज के परिजनों को बकरी के दूध की उपलब्धता को लेकर परेशानी झेलनी पड़ती है. ऐसे में हॉस्पिटल के गेट पर अलग ही तरह के पोस्टर देखे जा सकते हैं. जहां दुकानदार बकरी के दूध लेने के लिए पोस्टर भी लगा दिए हैं. इसे लगाने वाले ने मोटे अक्षरों में लिख रखा है कि बकरी का दूध लेने के लिए संपर्क करें. पोस्टर में पता के साथ मोबाइल नंबर भी सांझा कर रखा है.

बकरी के दूध की किल्लत
पशुपालक जगनारायण गौतम ने बताया कि एक बकरी से 250 ग्राम से लेकर 500 ग्राम तक ही दूध उपलब्ध हो पाता है. वह मौजूदा समय में 1.5 लीटर दूध बेचते हैं. जिसमें 250 ग्राम दूध का दाम 60 रुपए है. एक लीटर का दाम 240 रुपए है. उन्होंने बताया कि पहले 25 रुपए पाव ही बिकता था. लेकिन इस समय मंहगाई और बीमारी बढ़ने से इसके दाम में इजाफा हो गया है.

लिवर और गॉल ब्लैडर पर ज्यादा प्रभाव
वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. सुनील सिंह ने बताया कि डेंगू के लगातार मरीज सामने आ रहे हैं. इससे बचने के लिए लोग अपने घरों में साफ सफाई की व्यवस्था कर लें. सादा भोजन करने के साथ पानी का सेवन ज्यादा करें. इस बार डेंगू लिवर और गॉल ब्लैडर पर ज्यादा प्रभाव डाल रहा है. डॉ. सुनील के मुताबिक, बकरी के दूध का सेवन करने का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है. लोगों की मान्यता है कि इससे प्लेटलेट्स बढ़ता है, इसलिए सेवन करते हैं. लेकिन सबसे ज्यादा फायदा है कि हम पानी में इलेक्ट्रोल डाल कर पिएं, वो सबसे ज्यादा फायदेमंद है.

Tags: AIIMS Study, Dengue alert, Dengue fever, Milk, Mirzapur news, UP news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here