Motihari: murder threat Information given a week ago, after crime now police is investigating

0
141


मोतिहारी. पुलिस पर लेटलतिफी के आरोप अब कोई नई बात नहीं, पर जब उसकी कोताही का असर हत्या के रूप में सामने आए तो बात बेहद गंभीर हो जाती है. ताजा मामला मोतिहारी का है. यहां एक परिवार पुलिस के पास हफ्ते भर दौड़ लगाता रहा कि उन्हें हत्या की धमकी दी जा रही है और परिवार के लोग डरे-सहमे और चिंतित परेशान हैं. लेकिन इस शिकायत पर पुलिस ने ऐहतियात का कोई कदम नहीं उठाया. आखिरकार अपराधियों ने परिवार के एक शख्स की हत्या कर दी, तब पुलिस हरकत में आई.

पुलिस कोताही का यह मामला मोतीहारी का है. हत्या की यह वारदात कल्याणपुर थाना क्षेत्र के बखरी पंचायत में हुई है. यहां के गोविंदपुर गांव में घर में सोए शख्स की हत्या अपराधियों ने गोली मारकर कर दी है. मारे गए शख्स की पहचान रामजीवन राय के रूप में हुई है. बता दें कि रामजीवन राय को हफ्ते भर पहले पैक्स अध्यक्ष ने जान से मार देने की धमकी दी थी. तब से लेकर यह परिवार लगातार थाने के चक्कर काटता रहा, वरीय पदाधिकारी और विधायक तक से मिला, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई और अंततः अपराधियों ने रामजीवन राय को मार डाला. अब पुलिस हत्या के मामले की जांच करने की बात कह रही है.

परिजनों के अनुसार, 13 जनवरी को पैक्स अध्यक्ष ने 2-3 अज्ञात लोगों के साथ दरवाजे पर पहुंचकर रामजीवन राय को केस उठा लेने के लिए हड़काया था. पैक्स अध्यक्ष ने उसी समय उन्हें ‘देख लेने’ की धमकी दी थी. दूसरे दिन रामजीवन राय ने कल्याणपुर थाने में पैक्स अध्यक्ष की इस धमकी के खिलाफ लिखित शिकायत दी थी. पर थाने ने कोई एक्शन नहीं लिया. तब इंस्पेक्टर और विधायक तक से गुहार लगाई गई. तब पुलिस पीड़ित पक्ष के आवेदन पर जांच करने की बात कहकर टालती रही और कोई कार्रवाई नहीं की गई. पुलिस की इस कोताही का नतीजा हुआ कि शुक्रवार देर रात अपराधियों ने गोली मारकर रामजीवन राय की हत्या कर दी. अब हत्या की वारदात के बाद कल्याणपुर थाना पुलिस मामले की जांच में जुटी है.

वारदात के संबंध में मृतक के बेटे शिक्षक अरुण यादव और पोती नीलम कुमारी ने बताया कि बीते 13 जनवरी को पैक्स अध्यक्ष चेन्नई यादव ने हथियार के बल पर घर आकर दरवाजे पर धमकी दी, फिर लेटर लिखकर दरवाजे पर फेंक गया और बोला कि पुराना केस उठा लो, नहीं तो अंजाम बुरा होगा. इस धमकी की सूचना शिक्षक अरुण यादव ने कल्याणपुर थाना को दी, लेकिन थानाध्यक्ष ने इसपर कोई कार्रवाई नहीं की, जिसका नतीजा है कि आज शुक्रवार को हत्या हो गई. वारदात की सूचना मिलते ही चकिया डीएसपी संजय कुमार के साथ तीन थानों की पुलिस पहुंच कर जांच में जुटी है. गांव वालों में आक्रोश का माहौल है. शव को पोस्टमॉर्टम के लिए ले जाने से ग्रामीण रोक रहे हैं. मौका ए वारदात पर एसपी के बुलाने की मांग कर रहे हैं.

आपके शहर से (मोतिहारी)

Tags: Bihar police, Crime In Bihar, Motihari news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here