Muzaffarnagar news: फीकी पड़ रही है एशिया की सबसे बड़ी गुड़ मंडी, यहां भी ‘माफिया’ हावी

0
13


रिपोर्ट- अनमोल कुमार

मुजफ्फरनगर का गुड़ अन्य जनपद सहित कई राज्यों में भी मशहूर है. वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट में भी मुजफ्फरनगर के गुड़ का नाम आता है. जैसे-जैसे सर्दी नजदीक आती जा रही है. वैसे-वैसे गुड़ की आवक भी तेज हो रही है. एशिया की सबसे बड़ी गुड़ मंडी में जनपद में लगे गुड़ कोल्हू से ट्रैक्टर ट्रॉली, भैंसा बुग्गी और मिनी ट्रक के द्वारा गुड़ को मंडी तक पहुंचाया जाता है. वहां से उस गुड़ को दूर-दूर तक बेचा जाता है. सर्दी आने पर जनपद मुजफ्फरनगर में रोजगार भी बढ़ जाता है. जिले में सर्वाधिक कोल्हू लगाए जाते हैं. जिसमें बेरोजगारों को रोजगार भी मिल जाता है.

अधिक गुड़ बनाने के लिए सभी गुड़ कोल्हू को ज्यादातर 24 घंटे चलाया जाता है. एक बड़ी इंडस्ट्री की तरह ही गुड़ कोल्हू में काम करने वालों की शिफ्ट भी बांधी जाती है, जो कि करीब बारह, बारह घंटे की होती है.

News 18 लोकल की टीम को अधिक जानकारी देते हुए गुड़ मंडी अध्यक्ष संजय मित्तल ने बताया कि मुजफ्फरनगर के कस्बे और गांव में गुड़ के कोल्हू लगे होते हैं. जहां गुड़ तैयार किया जाता है और वहां से फिर इस गुड़ को मंडी लाया जाता है. यहां का गुड़ राजस्थान, पंजाब, गुजरात सभी जगह सप्लाई किया जाता है. एशिया की सबसे बड़ी गुड़ मंडी मुजफ्फरनगर की गुड़ मंडी को ही माना जाता है. पहले गुड़ मंडी में 70 हजार कट्टे आते थे. लेकिन अब तो केवल 5 से 7 हजार कट्टे ही गुड़ मंडी तक पहुंच पाते हैं.

आने वाले समय में गुड़ मंडी हो जाएगी समाप्त
संजय मित्तल ने बताया कि आने वाले समय में यह गुड़ मंडी खत्म हो जाएगी. जनपद में जो कोल्हू लगे हुए हैं. गुड़ माफिया वहां से डायरेक्ट गुड़ उठाकर अन्य राज्यों में सप्लाई कर रहे हैं. जिस वजह से सारा गुड़ इस मंडी में नहीं पहुंच पा रहा है. कम गुड़ आने से व्यापारियों को भारी नुकसान हो रहा है. जिसमें व्यापारी मुनीम और लेबर का खर्चा भी नहीं निकाल पा रहे हैं.

माफियाओं पर नहीं हो रही कार्रवाई
संजय मित्तल ने बताया कि कई बार गुड़ माफियाओं के खिलाफ प्रशासनिक अधिकारी को भी जानकारी दी गई. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को भी चिट्ठी भेजी गई है. लेकिन फिर भी माफियाओं पर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया. जिसके चलते माफियाओं के हौसले और भी बुलंद हो रहे हैं. गुड़ माफिया सीधे कोल्हू से गुड़ उठाकर गुजरात, पंजाब, राजस्थान आदि राज्यों में सप्लाई कर रहे हैं. अगर अब भी इन माफियाओं पर पाबंदी नहीं लगाई गई तो जो व्यापारी गुड़ मंडी में काम कर रहे हैं वह भी पलायन को मजबूर हो जाएंगे.

Tags: Muzaffarnagar news, Up news in hindi



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here