Naxalites Bandh In Jharkhand Bihar Today 27 JAN 2022; Railway Track Blown Up In Giridih | गिरिडीह के सरिया में नक्सलियों ने ट्रैक उड़ाया,अलग-अलग स्टेशनों पर फंसी ट्रेनें,चतरा में वाहन परिचालन बाधित, लोग परेशान

0
157


गिरिडीह2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जानकारी मिलने के बाद रेलवे पटरी पर पहुंचे पुलिस के जवान व रेल कर्मचारी

भाकपा माओवादियों की ओर से गुरुवार को झारखंड-बिहार बंद का आह्वान किया गया है। अपने आंदोलन का खौफ पैदा करने के लिए प्रतिबंधित संगठन ने उत्पात मचाना शुरु कर दिया है। इसके तहत गिरिडीह जिले में धनबाद-गया रेलखंड के अंतर्गत सरिया थाना क्षेत्र के चिचाकी और चौधरीबांध के बीच में नई दिल्ली- हावड़ा रेल लाईन के अप और डाउन ट्रैक को विस्फोट से उड़ा दिया गया। इसके कारण इस रूट पर ट्रेनों का परिचालन बाधित हो गया। घंटों की मशक्कत के बाद ट्रेनों का आवागमन सामान्य हो सका। वहीं चतरा जिले में नक्सलियों के खौफ के कारण सड़क परिवहन प्रभावित है।

गिरिडीह में देर रात किया गया विस्फोट

बताया जाता है कि रात लगभग 12:15 बजे नक्सलियों का दस्ता इस इलाके में पहुंचा। रेल पटरी पर पोल संख्या 334/13 व 14 के बीच विस्फोट कर ट्रैक को उड़ा दिया। इस दौरान मौके पर प्रतिरोध दिवस व बंदी का पर्चा भी छोड़ा गया । गुरुवार की सुबह घटना की सूचना मिलने के बाद सरिया-बगोदर व जिले की पुलिस टीम मौके पर पहुंची है । इसके अलावा रेलवे के कर्मचारियों ने ट्रैक की मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया। इसे पूरा कर लिया गया है।

इन ट्रेनों का संचालन हुआ प्रभावित
घटना के कारण इस रूट से होकर गुजरने वाली ट्रेनों का परिचालन बाधित हुआ। गंगा दामोदर एक्सप्रेस चौधरीबांध स्टेशन पर,जोधपुर हावडा एक्सप्रेस हजारीबाग रोड स्टेशन पर ,हटिया इस्लामबाद एक्सप्रेस पारसनाथ स्टेशन पर तथा हावडा मुम्बई मेल, लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस समेत कई अन्य ट्रेन विभिन्न स्टेशनों पर रूकी रहीं। स्थिति को सामान्य करने के प्रयास के तहत रेलकर्मियों द्वारा पटरियों की मरम्मत का कार्य शुरू किया गया। करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद इसे पूरा कर लिया गया। इसके बाद ट्रेनों का संचालन फिर प्रारंभ हुआ। घटना के बाद आस-पास के इलाके में पुलिस और CRPF द्वारा सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

नक्सलियों की ओर से भेजा गया पर्चा

प्रशांत-शीला की रिहाई मांग रहे हैं नक्सली
नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के टॉप लीडर प्रशांत बोस और उनकी पत्नी शीला दी की गिरफ्तारी के बाद से ही नक्सली संगठन गुस्से में हैं।.नक्सली संगठन द्वारा इनकी गिरफ्तारी के बाद दो बार बंद का आह्वान किया जा चुका है।संगठन दोनों की रिहाई और बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने की मांग कर रहे हैं। संगठन ने बंद से पहले गत 21 जनवरी से 26 जनवरी तक प्रतिरोध दिवस मनाया। इस दौरान पुल, मोबाइल टॉवर को क्षतिग्रस्त करने के साथ गणतंत्र दिवस पर कई जगहों पर काले झंडे फहराए गए।

सड़क पर पसरा सन्नाटा

चतरा में परिवहन प्रभावित
चतरा जिले में भाकपा माओवादियों के बंदी का व्यापक असर है। यातायात व्यवस्था पूरी तरह से प्रभावित है। मालवाहक एवं यात्री वाहनों का परिचालन नहीं हो रहा है। सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। जिला मुख्यालय से रांची, हजारीबाग, गया, कोडरमा, चौपारण एवं अन्य दूसरी जगहों के लिए चलने वाली यात्री बसों के पहियों पर ब्रेक लगा हुआ है। बस एवं टैक्सी स्टैंडों में यात्री परेशान हैं।

इनपुट : गिरिडीह से परमानंद बर्णवाल

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here