Neet leak paper was sent from jaipur to sikar and then haryana through whatsapp rjsr – NEET

0
25


जयपुर. जयपुर से लीक हुये मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट के पेपर (Neet paper leak case) के मामले में नित नये चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. पुलिस की जांच में सामने आया है जयपुर से लीक हुआ यह पेपर सॉल्व करने के लिये पहले सीकर (Sikar) भेजा गया. बाद में वहां से वह हरियाणा (Haryana) भेजा गया था. पुलिस ने इस मामले में एक और आरोपी सुनील कुमार को सीकर से गिरफ्तार किया है. सुनील पर पेपर सॉल्व कर वापस जयपुर भेजने का आरोप है. सुनील ने इस पेपर कुछ प्रश्न हरियाणा स्थित अपने एक दोस्त से सॉल्व करवाये थे. इस मामले में पुलिस की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे इसमें नये किरदार जुड़ते जा रहे हैं.

डीसीपी रिचा तोमर ने बताया कि 12 सितंबर को राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हुई मेडिकल प्रवेश नीट परीक्षा में भांकरोटा स्थित परीक्षा केन्द्र राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्ननोलॉजी कॉलेज में एक परीक्षार्थी को परीक्षा वीक्षक और परीक्षा केन्द्र के कर्मचारी के द्वारा मिलकर नकल कराई गई थी. प्रश्न पत्र को व्हाट्स ऐप के जरिये सीकर अपने साथी को भेजकर उसे सॉल्व करवाया गया था. उसकी आंसर की वापस व्हाट्स अप पर मंगवाकर परीक्षार्थी को दी गई थी.

पूरा खेल व्हाट्स ऐप के जरिये हुआ था
प्रश्न पत्र को सॉल्व करने वाले आरोपी सुनील कुमार भांकरोटा थाना पुलिस सीकर से गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी सुनील कुमार ने पूछताछ में बताया है कि उसको 12 सितंबर को नीट परीक्षा 2021 का प्रश्न पत्र उसके दोस्त पंकज यादव ने व्हाट्स ऐप पर सॉल्व करने के लिये भेजा था. उसको उसने सॉल्व किया था. लेकिन कुछ प्रश्नों के जवाब उसको नहीं आने के कारण उसने अपने हरियाणा निवासी एक दोस्त को व्हाट्स ऐप भेजकर सॉल्व करवाये थे. प्रश्न पत्र को सॉल्व कर उसकी आंसर की व्हाट्स ऐप के जरिये पंकज यादव को भेज दी थी. पुलिस आरोपी से गहनता से पूछताछ कर रही है.

पुलिस ने सोमवार को किया था मामले का खुलासा
नीट परीक्षा पेपर लीक मामले में पुलिस ने सोमवार को एक परीक्षार्थी समेत कुल 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया था. पुलिस ने सूचना मिलने के बाद परीक्षार्थी धनेश्वरी के पेपर और ओएमआर शीट को जब्त कर लिया है. आरोपियों को गिरफ्तार करने के साथ ही उनसे 10 लाख रुपये भी बरामद कर लिए थे. पेपर लीक का यह सौदा 35 लाख रुपये में हुआ था। यह पैसा मिलीभगत करने वाले आरोपियों में बंटना था. पुलिस ने बताया था कि धनेश्वरी का पेपर एम-2 सीरिज का था. आरोपियों के मोबाइल से आंसर की और पेपर लीक की पुष्टी हो चुकी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here