Nitish government of bihar implement new rule to stop selling of government land and property by mafias bramk

0
31


पटना. बिहार में जमीनी विवाद खत्म करने की दिशा में सरकार ने एक और कदम आगे बढ़ाते हुए बड़ा निर्णय लिया है. सरकार की इस पहल के बाद अब बिहार में जमीन के जालसाज (Land Mafia) सरकारी जमीनों को बेवकूफ बनाकर किसी को नहीं बेच पाएंगे. बिहार में बढ़ रहे भूमि विवाद (Bihar Land Dispute) में रोज ऐसे मामले सामने आते हैं जिसमें सरकारी जमीन को दलाल दूसरे के नाम पर रजिस्ट्री करा देते हैं और बाद में जो खरीदार को इधर उधर चक्कर लगाना पड़ता है.

भूमि विवाद को खत्म करने के लिए बिहार सरकार के राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने निर्णय लिया है कि बिहार में अब अंचलवार सभी सरकारी भूखंडों की सूची बनाई जाएगी. सभी सरकारी भूखंडों का सूची बन जाने के बाद उसे निबंधन विभाग को सौंप दिया जाएगा जिसके बाद सरकारी जमीन की रजिस्ट्री बिना सरकार के अनुमति के नहीं हो पाएगी और इससे भूमि विवाद का भी निपटारा होगा और जालसाजी करने वालों पर नकेल भी कसा जा सकेगा.

बिहार में सरकार जमीनों का सर्वे करा रही है. सर्वे के दौरान सरकारी जमीनों का रिकॉर्ड भी इकट्ठा किया जा रहा है लेकिन जमीनों का सर्वे फिलहाल सिर्फ 20 जिले में ही किया जा रहा है बाकी बचे 18 जिलो में इस पर काम भी शुरू नही हुआ है. सरकार ने पहले भी कई बार सरकारी जमीनों की सूची उपलब्ध कराने की मांग की लेकिन अभी तक कोई सूची राज्य सरकार के पास उपलब्ध नही है, ऐसे में भूमि एवं राजस्व विभाग ने बिहार के सभी जिलों के डीएम को पत्र लिख सरकारी जमीन की सूची बनाकर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है.

भूमि विवाद के मामले में कई ऐसे मामले भी सामने आए हैं जिसमें सरकारी जमीन पर चल रहे विवाद का मुकदमा सरकार हार गई, इसको देखते हुए राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने मुकदमा हारने पर लापरवाह सरकारी कर्मियों से राशि वसूलने का आदेश भी जारी किया है. बिहार में लगातार बढ़ रहे अपराध की घटनाओं में सबसे ज्यादा मामले भूमि विवाद से ही जुड़े होते हैं. भूमि विवाद को खत्म करने के लिए सरकार के द्वारा कई पहल किए गए हैं बावजूद इसके घटनाएं कम नहीं हो रही हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here