North korea on january 17 fired 2 suspected ballistic missiles into the sea

0
243


प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) ने महीने में चौथी बार समुद्र में दो कम दूरी तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल (Ballistic Missiles) दागी हैं. इस बात की जानकारी दक्षिण कोरिया (South Korea) की सेना ने दी है. उत्तर कोरिया ने इस साल जब लगातार दो बार मिसाइल परीक्षण किया, तो उसपर अमेरिका ने प्रतिबंध लगाए दिए. इसे तानाशाह किम जोंग उन ने ‘उकसावे’ वाली हरकत बताया और जवाब देने के लिए एक बार और मिसाइल परीक्षण किया. अब सोमवार को खबर आई कि अमेरिका के नए प्रतिबंधों के बाद दूसरी बार मिसाइल परीक्षण किया गया है. यानी साल की शुरुआत से लेकर अब तक उत्तर कोरिया ने चार बार मिसाइल परीक्षण कर दिया है.

दक्षिण कोरिया के जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने सोमवार को कहा कि ऐसी संभावना है कि उत्तर कोरिया ने राजधानी प्योंगयांग में सुनान एयरपोर्ट से दो बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है. लेकिन अभी ये पता नहीं चला है कि मिसाइलों ने कितनी दूरी तय की है. जापान की सरकार ने भी इस परीक्षण की जानकारी दी है. साथ ही इसकी निंदा करते हुए इसे क्षेत्र की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा बताया है. प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा (Prime Minister Fumio Kishida) ने अपनी सरकार को आदेश दिए हैं कि मिसाइल परीक्षण से जुड़ी हर जानकारी हासिल की जाए. साथ ही जहाजों और विमानों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए.

क्रूर तानशाह के देश में खुला मर्दों का एक सीक्रेट अस्पताल, Google Maps ने खोल दी पोल

जापान कोस्ट गार्ड ने चेतावनी जारी की
जापान के कोस्ट गार्ड ने जापानी पानी में मौजूद जहाजों के लिए चेतावनी जारी की है. उनसे कहा गया है कि आसमान से गिरती चीजों को देखते रहें. लेकिन अभी तक मिसाइल परीक्षण से जुड़े किसी नुकसान की खबर सामने नहीं आई है. कोस्ट गार्ड ने बाद में जानकारी दी कि उत्तर कोरिया की मिसाइल चेतावनी दिए जाने से पहले ही कहीं गिर गई थीं, लेकिन वो कहां आकर गिरी हैं, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. बीते हफ्ते ही उत्तर कोरिया ने हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया था. जिसकी किम जोंग उन ने तारीफ की थी. इससे पहले शुक्रवार को ट्रेन से दो मिसाइल दागी गई थीं. परमाणु हथियार से लैस उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र ने प्रतिबंध लगाए हुए हैं.

खुफिया कैमरे से सामने आई रहस्यमई देश की खौफनाक तस्वीरें, भूखे कैदियों को मौत आने तक करवाते हैं काम

डोनाल्ड ट्रंप ने किम जोंग से 2019 में शुरू की थी बात
निरस्त्रीकरण को लेकर अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने किम जोंग उन से 2019 में बातचीत की शुरुआत की थी. लेकिन उत्तर कोरिया की रियायतों की मांग के कारण बातचीत अधर में ही लटक गई. उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को परीक्षणों के परिणामस्वरूप नए प्रतिबंध लगाने के लिए अमेरिका को फटकार लगाई है. जबकि अमेरिका से संयुक्त राष्ट्र से लगातार किए जा रहे हथियारों के परीक्षण को लेकर उत्तर कोरिया के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह किया है. कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि किम जोंग हथियारों का परीक्षण कर अपना पुराना हथकंडा अपना रहे हैं, ताकि अमेरिका को धमकाकर उससे रियायतें हासिल की जा सकें.

Tags: North Korea, North korea tension



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here