Omicron coronavirus new variant why world worry covid 19 all you need to know

0
70


नई दिल्‍ली. अभी दुनिया कोविड 19 (Covid 19) के साये से बाहर निकलने का मन बना ही रही थी. ऐसा लग रहा था कि हमें एक लंबे अंतराल के बाद कोरोना वायरस (Coronavirus) से शायद निजात मिल जाए. दुनिया पटरी पर लौट रही थी. ऐसे में ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) को तेजी से बढ़ता देखकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे वेरिएंट ऑफ कन्सर्न की श्रेणी में डाल दिया है. मतलब ऐसा वेरिएंट जो चिंता का कारण बन सकता है. अपने दरवाजे दूसरों के लिए खोलना शुरू कर रही दुनिया वापस बैकफुट पर लौट रही है. बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीकी सरकार ने इसे एक खतरनाक वेरिएंट के तौर पर हरी झंडी दिखाई है. वहीं पहले से ही डेल्टा वायरस के प्रकोप से जूझ रहे यूरोप के लिए इस नए वेरिएंट ने तकलीफें और बढ़ा दी हैं. लगातार तीन सालों से महामारी से जूझते हुए अब तक हमें यह बात तो समझ आ गई है कि अपने वंश की वृद्धि वायरस की एक और प्रकृति है. लेकिन ओमिक्रॉन ने एक अलग सा डर पैदा कर दिया है.

  • सार्स सीओवी-2 वेरिएंट्स लगातार बढ़ते कैसे रहते हैं?

    मानव शरीर में प्रवेश करके, वायरस कोशिकाओं में घुसपैठ करने के लिए खुद की कॉपी या प्रतिलिपि तैयार करता है. लेकिन अपनी कॉपी बनाने की यह प्रक्रिया वायरस को गलती करने के लिए संवेदनशील बना देती है यानी वह कमजोर होता जाता है. हार्वर्ड गजट में प्रकाशित रिपोर्ट बताती है कि म्यूटेशन वायरस के जीवन चक्र का एक सामान्य हिस्सा है. यह म्यूटेशन वायरस के मामले में दोधारी तलवार की तरह बर्ताव करता है. एक तरफ जहां म्यूटेशन से इसकी दूसरे व्यक्ति को संक्रमित करने की क्षमता कमजोर पड़ सकती है, वहीं अनुवांशिक बदलाव करके वायरस एक होस्ट से दूसरे होस्ट में आसानी से जाने की अपनी प्रवृत्ति को तेज कर लेता है. कुछ वायरस, जिसमें नोवल कोरोना वायरस भी शामिल है, उनमें यह देखते हुए कि म्युटेशन वायरस के लिए खतरनाक साबित हो सकता है, वह अपने अनुवांशिक कोड में गलतियों की जांच के लिए एक कथित प्रूफ रीडिंग तंत्र जोड़ लेते हैं.

    अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक जब कोई वायरस म्यूटेशन लेता है तो असल वायरस से उसके लक्षणों में उल्लेखनीय बदलाव होते हैं और इस तरह से नया वेरिएंट अस्तित्व में आता है. एक वेरिएंट में एक या ज्यादा म्यूटेशन उसे सार्स सीओवी-2 वायरस के अन्य वेरियंट से भिन्न बनाता है. विशेषज्ञों का कहना है कि ज्यादातर म्यूटेशन महत्वहीन होते हैं, लेकिन कुछ,खुद को साबित करके यानी प्राकृतिक चयन के जरिए प्रभावी हो सकते हैं.

  • वेरिएंट एंटीबॉडी से कैसे बच निकलते हैं?

    टीका लगने और संक्रमण के बाद शरीर में जो एंटीबॉडी बनती है वो वायरस से सुरक्षा प्रदान करती है, इसलिए वेरिएंट चिंता का विषय नहीं होते हैं. हां कुछ वेरिएंट ऐसे हो सकते हैं जो एंटीबॉडी के सुरक्षा चक्र को भेदने में सक्षम हो जाते हैं. हालांकि अब तक ऐसा कोई बड़े वेरिएंट की पहचान नहीं हुई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वेरिएंट ऑफ कन्सर्न और वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट की सूची जारी की है, उसमें पाया गया है कि एंटीबॉडी ही नहीं संक्रमण या टीका लगने के बाद जो कोशिकीय इम्युनिटी होती है वह भी इम्यून सिस्टम को सक्षम बनाती है. वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञ ओमिक्रॉन को दूसरे वायरस ऑफ कन्सर्न की तुलना में दोबारा संक्रमण के खतरे के मामले में ज्यादा खतरनाक मानते हैं. उनका मानना है कि इस वेरिएंट के पास बढ़ोतरी करने का मौका ज्यादा हो सकता है.

  • क्या ऐसा कोई वेरिएंट हो सकता है जो पूरी तरह से एंटीबॉडी के असर को खत्म कर दे?

    इस सवाल के जवाब में रॉकफैलर यूनिवर्सिटी के शोधार्थी कहते हैं, वेरिएंट को ऐसी क्षमता हासिल करने के लिए कई बार सटीक म्यूटेशन हासिल करना होगा, अब सार्स कोवि 2 के वेरिएंट को यह उपलब्धि हासिल करनी है तो उसे कम से कम 20 बार सही म्यूटेशन हासिल करना होगा, तब जाकर वह एक औसत व्यक्ति जो कोरोना से संक्रमित हुआ है या जिसे टीका लगा है उसकी एंटीबॉडी पर सटीक हमला कर सकता है.

  • बस यही वह बात है जिसने पूरी दुनिया को चिंता में डाल दिया है. ओमिक्रॉन (B.1.1.529) में 30 म्यूटेशन पाए गए हैं, इनमें से कुछ म्यूटेशन वह अन्य बीटा (B.1.351) डेल्टा (B.1.617.2) वेरिएंट के साथ भी साझा करता है. हालांकि विशेषज्ञों का मानना है कि व्यक्तिगत म्यूटेशन इस बात की ओर इशारा नहीं करता है कि वह कितना प्रभावी हो सकता है, वायरस की प्रकृति और व्यवहार के आधार पर यह तय होता है कि वो कितना असर डाल सकता है.

    ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here