Panchayat bhawan open after 18 months encounter of vikas dubey in kanpur upns

0
25


कानपुर. बिकरू कांड (Bikru Shootout) के मुख्य आरोपी और एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे (Gangster Vikas Dubey) की दबंगई का आखिरी ताला 18 महीने बाद टूट गया. बिकरू के पंचायत भवन में 10 महीने बाद ताला तोड़कर नए प्रधान ने कदम कदम रखा है. इससे पहले पंचायत भवन का ताला खोलने की हिम्मत किसी ने नहीं की थी, क्योंकि पंचायत भवन पर खुद विकास दुबे ने ताले लगाए थे. दरअसल बिकरू गांव में पंचायत भवन बनने के बाद से ही विकास दुबे ने उस पर कब्जा कर रखा था. उस पर ताला डाल रखा था.

लेकिन उसकी दहशत इतनी थी कि किसी ने भी इस दौरान कभी पंचायत भवन का ताला खोलने की हिम्मत नहीं की थी. विकास दुबे ने पंचायत भवन में पर ताला उसी दिन यानी 2 जुलाई, 2020 को लगाया था, जिस रात उसने 8 पुलिसवालों को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया था. बिकरू कांड के बाद प्रशासन ने विकास के भाई की पत्नी अंजलि को प्रधान पद से बर्खास्त करके नया चुनाव कराया था. जिसमें गांव के दलित वर्ग से संजय की पत्नी मधु चुनाव तो जीत गई थी. लेकिन विकास के आतंक और दहशत की वजह से उनकी या किसी अधिकारी की हिम्मत नहीं हो रही थी कि वो पंचायत भवन का ताला तोड़ दें.

मुठभेड़ में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे
बता दें कि एक साल पहले 2 जुलाई 2020 को कानपुर जिला स्थित बिकरू गांव गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा था. आधी रात को करीब 12:45 बजे बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने डीएसपी और एसओ समेत 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी. एक-एक पुलिसकर्मी को दर्जनों गोलियां मारी गई थीं. पुलिस और एसटीएफ ने मिलकर आठ दिन के भीतर विकास दुबे समेत छह बदमाशों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था. अभी 45 आरोपी जेल में बंद हैं. केस का ट्रायल चल रहा है.

आपके शहर से (कानपुर)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Kanpur news, Police encounter, UP Assembly Election 2022, UP crime, UP news, UP police, Vikas Dubey, Vikas Dubey Encounter, कानपुर



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here