Ramayan Yatra: अयोध्या पहुंची ‘भारत गौरव’ ट्रेन, स्वागत से यात्री अभिभूत, वाया नेपाल होगी 8000 किमी की यात्रा

0
10


अयोध्या. भारत के कई शहरों से होते हुए नेपाल जाने वाली तीर्थ और पर्यटन को जोड़ने के मकसद से चलाई गई भारत गौरव ट्रेन अयोध्या पहुंची तो उसका भव्य स्वागत किया गया. इस ट्रेन के तीर्थ यात्रियों के स्वागत के लिए पर्यटन मंत्री, सांसद और महापौर आदि जनप्रतिनिधि फूल मालाओं और बैंड बाजों के साथ रेलवे स्टेशन पर मौजूद रहे. दिल्ली से चली इस ट्रेन में मौजूद तीर्थयात्री अयोध्या में हुए स्वागत से अभिभूत नज़र आए और उन्होंने इस स्पेशल ट्रेन की सुविधाओं की भरपूर तारीफ की.

पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने फूल और मालाओं से तीर्थ यात्रियों का स्वागत किया. आज 22 जून की रात 9:30 बजे यह ट्रेन अयोध्या से गोरखपुर के लिए रवाना होगी. श्री रामायण यात्रा के तौर पर चलाई जा रही यह ट्रेन गोरखपुर से नेपाल स्थित जनकपुर जाएगी, जिसे देवी सीता का मायका माना जाता है. फिर जनकपुर से बनारस के लिए ट्रेन रवाना होगी. कुल 17 दिन 18 रात में भारत के तीर्थ स्थलों की यात्रा यह ट्रेन पूरी करेगी. इस ट्रेन में कुल 480 तीर्थ यात्री सवार हैं.

अयोध्या पहुंचने से पहले इस ट्रेन को रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से 21 जून को हरी झंडी दिखाई दी. उनके साथ उत्तर पूर्व क्षेत्र के पर्यटन व संस्कृति विकास मंत्री किशन रेड्डी भी मौजूद थे. बताया गया है कि इस ट्रेन से यात्रियों को भारत के उन तीर्थस्थलों की यात्रा करवाई जाएगी, जो भगवान राम के जीवन में महत्वपूर्ण रहे हैं. यानी यह ट्रेन उत्तर की अयोध्या से होकर दक्षिण की अयोध्या यानी भद्राचलम तक की यात्रा करने वाली है.

कितनी खास है यह रामायण यात्रा?
— आईआरसीटीसी की इस टूरिस्ट ट्रेन में 11 थर्ड एसी क्लास कोच हैं.
— इस ट्रेन की क्षमता 600 यात्रियों की है.
— हर यात्री को इस 18 दिन की यात्रा के लिए 62,370 रुपये का खर्च आ रहा है.
— वनवास के दौरान भगवान राम, लक्ष्मण व सीता जहां गए या रहे, उन प्रमुख स्थानों पर यह ट्रेन जाएगी.
— यह ट्रेन 8000 किलोमीटर की यात्रा तय करेगी.
— इस ट्रेन की इंटीरियर डिज़ाइनिंग भी रामायण के कथा प्रसंगों के अनुसार की गई है.

क्या है इस ट्रेन का रूट?
स्वदेश दर्शन स्कीम के तहत यह भारत गौरव ट्रेन रामायण सर्किट में दौड़ रही है. इसके प्रमुख स्थान अयोध्या, जनकपुर, सीतामढ़ी, बक्सर, वाराणसी, प्रयागराज, शृंगवेरपुर, चित्रकूट, नाशिक, हम्पी, रामेश्वरम, कांचीपुरम और भद्राचलम हैं. लखनऊ में आईआरसीटीसी के क्षेत्रीय प्रबंधक अजीत कुमार सिन्हा ने कहा, भारत और नेपाल के बीच पहली बार कोई टूरिस्ट ट्रेन चली है, जो अयोध्या और जनकपुर जैसे दो धार्मिक महत्व के शहरों को जोड़ रही है.

Tags: Special Train, UP news, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here