SC की कमेटी पर राहुल गांधी बोले- क्या कृषि क़ानूनों का समर्थन करने वालों से न्याय की उम्मीद की जा सकती है

0
43


कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला.
. (File pic)

राहुल ने कहा, ‘‘क्या कृषि-विरोधी क़ानूनों का लिखित समर्थन करने वाले व्यक्तियों से न्याय की उम्मीद की जा सकती है? ये संघर्ष किसान-मज़दूर विरोधी क़ानूनों के ख़त्म होने तक जारी रहेगा. जय जवान, जय किसान!’’

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 12, 2021, 10:59 PM IST

नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul gandhi) ने केंद्रीय कृषि कानूनों (Farm Law 2020) को लेकर चल रहे गतिरोध को खत्म करने के मकसद से उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) द्वारा गठित समिति के चारों सदस्यों पर सवाल खड़े करते हुए मंगलवार को कहा कि क्या ‘कृषि विरोधी कानूनों’ का समर्थन करने वालों से न्याय उम्मीद की जा सकती है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘क्या कृषि-विरोधी क़ानूनों का लिखित समर्थन करने वाले व्यक्तियों से न्याय की उम्मीद की जा सकती है? ये संघर्ष किसान-मज़दूर विरोधी क़ानूनों के ख़त्म होने तक जारी रहेगा. जय जवान, जय किसान!’’ उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने तीन नये कृषि कानूनों को लेकर सरकार और दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे रहे किसान संगठनों के बीच व्याप्त गतिरोध खत्म करने के इरादे से मंगलवार को इन कानूनों के अमल पर अगले आदेश तक रोक लगाने के साथ ही किसानों की समस्याओं पर विचार के लिये चार सदस्यीय समिति गठित कर दी.

ये भी पढ़ेंः- सुप्रीम कोर्ट ने कहा- कमेटी 10 दिन में किसानों के साथ बैठक करेगी, 2 महीने में रिपोर्ट सौंपेगी

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन की पीठ ने सभी पक्षों को सुनने के बाद समिति के लिये भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष भूपिन्दर सिंह मान, शेतकारी संगठन के अध्यक्ष अनिल घनवत, अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति एवं अनुसंधान संस्थान के निदेशक (दक्षिण एशिया) डॉ प्रमोद जोशी और कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी के नामों की घोषणा की.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here