Supertech को घुटनों पर लाने वाले यूबीएस तेवतिया, जानें क्यों किया था ट्विन टॉवर के खिलाफ केस

0
44


नोएडा. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा में सुपरटेक के ट्विन टावर को आज जमीदोज़ कर दिया जाएगा. इसे सुरक्षित तरीके से ढहाने के लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. दोनों टावर कुतुब मीनार से भी ऊंचे हैं और इन्हें 15 सेकंड से भी कम समय में ‘वाटरफॉल इम्प्लोजन’ तकनीक से ढहा दिया जाएगा.

सुपरटेक बिल्डर के खिलाफ करीब 10 साल तक कानूनी लड़ाई लड़ने वाले यूबीएस तेवतिया ने ट्विन टॉवर को ढहाये जाने को लेकर खुशी जाहिर की है. एमरल्ड कोर्ट में रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष तेवतिया ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हमें खुशी है कि जिसके लिए यह लड़ाई लड़ी थी वह समय अब आ गया है.

यूबीएस तेवतिया ने कहा, ‘हमने वर्ष 2012 में हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. हमें खुशी है कि 10 साल की इस लंबी लड़ाई में हमें जीत मिली. इन इमारतों से ढहने का फायदा 3 महीनों में हमें दिखने लगेगा.’ इसके साथ ही वह कहते हैं, ‘अब यहां आसपास की 15 टावरों में रहने वाले लोग खुलकर सांस ले सकेंगे. इन्‍हें धूप मिल सकेगी.’

वहीं सुपरटेक ट्विन टॉवर के खिलाफ उनकी आपत्ति को लेकर सवाल पर तेवतिया ने बताया कि सुपरटेक बिल्डर ने रेजिडेंट्स से झूठ बोला था. उन्होंने कहा था कि ये दो अलग प्रोजेक्‍ट हैं, जबकि ट्विन टावर भी इसी 15 टावर वाले प्‍लॉट में बनाए जा रहे थे. इसके साथ ही वह बताते हैं ट्विन टॉवर में बदलाव के लिए परिसर के लेआउट में बदलाव के लिए रेजिडेंट्स ने उन्होंने कोई बातचीत नहीं थी.

सुपरटेक ट्विन टॉवर को ढहाए जाने को लेकर पल-पल के अपडेट यहां पढ़ें

तेवतिया कहते हैं कि यहां दो टावरों के बीच कम से कम 16 मीटर की दूरी होनी चाहिए, ताकि सभी फ्लैटों को हवा और धूप मिल सके साथ ही आग लगने पर दूसरी टावर चपेट में न आएं, लेकिन इन्‍होंने दूसरे टॉवर से महज 9 मीटर की दूरी पर ट्विन टावर खड़ी कर दी, जो यहां के निवासियों के अधिकारों से खिलवाड़ है.

Tags: Noida news, Supertech Emerald Tower, Supertech twin tower



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here