UP News: आगरा के स्टूडेंट्स ने CM योगी के जनता दरबार में क्यों लगाई अंकों की गुहार? जानें मामला

0
27


आगरा: कोरोना महामारी के चलते यूपी बोर्ड ने सत्र 2020-21 में हाईस्कूल की परीक्षाएं नहीं कराई थीं. कक्षा-9 और हाई स्कूल की प्री बोर्ड लिखित परीक्षाओं के आधार पर विद्यार्थियों को अंक दिए गए थे, लेकिन आगरा के श्रीमती बेजंती देवी इंटर कॉलेज के 128 विद्यार्थियों को अंक न देकर उनको कोरी मार्कशीट दे दी गई. इन मार्कशीट में अंकों के लिए विद्यार्थियों ने शिक्षा विभाग, प्रशासनिक अधिकारी, सांसद, विधायक तथा मंत्रियों से गुहार लगाई लेकिन किसी ने भी इनकी बात को गंभीरता से नहीं लिया. बोर्ड से पत्राचार किया गया तो बोर्ड द्वारा बताया गया कि जिन विद्यालयों ने बोर्ड को अंक भेजे थे, उनको अंक दे दिए गए हैं. जिन्होंने अंक नहीं भेजे थे, उनको सामान्य रूप से प्रमोट कर दिया गया. विद्यालय से संपर्क किया गया तो विद्यालय ने बताया कि उन्होंने बोर्ड को अंक भेजे हैं लेकिन विद्यार्थियों को अंक नहीं मिले. अंकों के लिए विद्यार्थी आगरा में लंबे समय से आंदोलन कर रहे हैं. ऐसे में अंकों के लिए विद्यार्थी आगरा से चार सौ किलोमीटर का सफर तय करके लखनऊ कालिदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर जनता दरबार में गुहार लगाने पहुंचे.

सात दिन में कार्यवाही का दिया आश्वासन
आगरा के विद्यार्थी जब मुख्यमंत्री दरबार पहुंचे तो वहां पर उनकी पूरी समस्या को सुनने के बाद उन्हें सात दिन में कार्यवाही का आश्वासन दिया गया और बच्चो को कहा गया कि स्कूल प्रशासन या फिर बोर्ड का सदस्य कोई भी दोषी पाया जाता है, तो उन पर अगले सात दिन में कार्यवाही की जायेगी.

विद्यार्थियों के साथ अभिभावक भी रहे शामिल
मुख्यमंत्री दरबार में अंकों की गुहार लगाने वाले विद्यार्थी आगरा से अपने अभिभावकों के साथ लखनऊ आए थे. छात्राओं की संख्या अधिक थी. छात्राओं का कहना था कि मुख्यमंत्री बेटियों के लिए मिशन शक्ति जैसी तमाम योजनाएं चला रहे हैं, इसी उम्मीद के साथ वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अंक मांगने लखनऊ आई हैं.

मेरिट से हमेशा के लिए हुए बाहर
आगरा से बच्चों के साथ आए अभिभावक नरेश पारस ने बताया कि बिना अंकों के इन बच्चों की कभी भी मेरिट नहीं बन पाएगी और यह हमेशा के लिए मेरिट सूची से बाहर हो जाएंगे. जबकि किसी भी महाविद्यालय में दाखिला अथवा सरकारी सेवा में जाने के लिए अंकों के आधार पर मेरिट बनती है लेकिन अंक न होने के कारण विद्यार्थियों की कभी भी मेरिट नहीं बन पाएगी. नरेश पारस ने बताया कि आगरा में विद्यार्थियों द्वारा जिला मुख्यालय पर हस्ताक्षर अभियान ही चलाया गया. छात्राओं ने प्रशासनिक अफसर तथा विधायक से अंकों की भीख भी मांगी थी.

Tags: Agra news, Uttar pradesh news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here