Viral Letter : चौथी क्लास की काश्वी ने लिखी PM मोदी को चिठ्ठी, क्या है वायरल हो रही यह मासूम अपील?

0
8


रिपोर्ट- आदित्य कुमार

नोएडा: दिल्ली से सटे ज़िला गौतमबुद्ध नगर में पब्लिक ट्रांसपोर्ट के अभाव को लेकर 8 साल की बच्ची ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मार्मिक चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है. बच्ची ने पीएम से गुहार लगाते हुए कहा है ‘मेरे पापा को रोज कहीं आने-जाने में समस्या होती है. कृपया सार्वजानिक परिवहन की व्यवस्था करवा दें.’ यह चिट्ठी असल में ग्रेटर नोएडा में मेट्रो का इंतज़ार लंबा हो जाने के मुद्दे से जुड़ी है.

ग्रेटर नोएडा वेस्ट की चेरी काउंटी सोसाइटी की रहने वाली आठ साल की बच्ची काश्वी ने पीएम मोदी को 20 नवंबर को चिट्ठी लिखी. कासवी ने लिखा ‘प्रधानमंत्री जी, मैं चाहती हूं कि, यह पत्र आप स्वयं पढ़ें. मैं ग्रेटर नोएडा वेस्ट में रहती हूं. मैं आपको बताना चाहती हूं कि मेरे यहां मेट्रो नहीं है. कई सालों से मेट्रो बनने की सिर्फ खबर आ रही है. ग्रेटर नोएडा वेस्ट में कई सारे लोग रहते हैं, उनको ऑफिस आने जाने में परेशानी होती है क्योंकि यहां पब्लिक ट्रांसपोर्ट नहीं है. कृपया हमारी परेशानी दूर करें और जल्द मेट्रो को हरी झंडी दिखाएं.’

आपके शहर से (नोएडा)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

लाखों लोग रोज झेलते हैं परेशानी

काश्वी चौथी कक्षा में पढ़ती है. वह बताती है मैं रोज पापा को घर से ऑफिस जाते देखती हूं और वह रोज देर से आते हैं. मेरे और भी कई जान-पहचान वाले लोग हैं, जो पब्लिक ट्रांसपोर्ट की कमी के कारण परेशान होते हैं इसलिए मैं चाहती हूं कि यहां पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा हो जाए ताकि मेरे पापा सुरक्षित ढंग से समय पर घर पहुंच सकें.

NEWS 18 LOCAL से बात करते हुए काश्वी के पिता हिमांशु अग्रवाल ने कहा मैं रोज सुबह बाइक या ऑटो से अपने ऑफिस जाता हूं. मेरे साथ वाले लोग भी दिल्ली, गुरुग्राम और नोएडा की तरफ काम करने जाते हैं. दिल्ली जाने के लिए सेक्टर-51 या 52 मेट्रो तक हमें जाना होता है और वहां तक पहुंचने के लिए हमारे पास कोई विकल्प नहीं होता. सार्वजनिक परिवहन न होने के कारण हम ऑटो अथवा निजी वाहन से यात्रा करते हैं. यह बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है क्योंकि एक ऑटो में ज्यादा लोग होते हैं और यह महंगा भी पड़ता है.

Tags: Greater noida news, Viral news



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here