Weather in Himachal landslide in kinnaur shimla bilaspur highway still not opened hpvk

0
28


शिमला. हिमाचल प्रदेश में विदाई से पहले मॉनसून जमकर बरस रहा है. मंगलवार देर रात भी सूबे में मंडी, शिमला सहित कई जिलों में बारिश हुई है. वहीं, बारिश के चलते लगातार लैंडस्लाइड हो रहे हैं. मंगलवार रात को कुल्लू में जहां औट-लुहरी नेशनल हाईवे 305 गांव छेत के पास भूस्खलन से बंद हो गया था, लेकिन रात को इसे बहाल कर दिया गया है. वहीं, किन्नौर में चौरा गेट पर लैंडस्लाइड से हाईवे बंद हो गया है. यहां सड़क पर बड़े बड़े पत्थर गिरे हैं.

वहीं, शिमला में घंडल के पास अब तक हाईवे बहाल नहीं हो पाया है और मुख्य मार्ग से शिमला और लोअर हिमाचल कट गया है. हालांकि, दूसरे लिंक मार्ग से शिमला बिलासपुर आया-जाया जा सकता है. वहीं, घंडल के पास लैंडस्लाइड और सड़क का जायजा लेने के लिए शिमला के डीसी ने मौके का दौरा किया है. वहीं, मौसम विभाग ने प्रदेश में 20 सितंसबर तक बारिश का पूर्वानुमान लगाया है. हालांकि, इस दौरान किसी तरह का अलर्ट नहीं रहेगा. लेकिन प्रदेश के कई इलाकों में लैंडस्लाइड हो सकती है.

हिमाचल प्रदेश में विदाई से पहले मॉनसून जमकर बरस रहा है.

मंगलवार को कहां-कहां बारिश हुई
मंगलवार को सोलन जिले में 44 एमएम पानी बरसा. वहीं, किन्नौर के कल्पा में 23 एमएम, शिमला 16, भुंतर 4 एमएम, कुफरी 6 एमएम और धर्मशाला में 3 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई. मनाली में लगातार बारिश और ऊंची चोटियों पर बर्फबारी से यहां का पारा 4 डिग्री तक गिर गया और अधिकतम तापमान 19 डिग्री दर्ज किया गया.इसके अलावा, लगातार बारिश से मंडी में पारा 3 डिग्री, कुल्लू के भुंतर में 5 डिग्री और डलहौजी में 3 डिग्री पारा लुढ़का है. सूबे में हल्की ठंड महसूस की जा रही है. हिमाचल के ऊना में मंगलवार को सबसे अधिक 32 डिग्री तापमान दर्ज हुआ. वहीं, कांगड़ा में 30 डिग्री पारा रहा.

Weather in Himachal landslide in kinnaur shimla bilaspur highway still not opened hpvk

शिमला से लगभग 20 किलोमीटर दूर नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के पास सोमवार को देर शाम हुए लैंडस्लाइड से राष्ट्रीय राजमार्ग पूरी तरह से बंद हो गया है.

सड़कों की बदहाली
कांग्रेस ने बरसात में सड़कों की बदहाली पर सरकार पर निशाना साधा. नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि बिलासपुर मार्ग बंद है. अभी कुल्लू गए थे तो लग रहा था कि वापस आने तक विसर्जित हो जाएगा. वही हुआ. ना जाने कितना समय लगेगा अब मुरम्मत में. मुख्यमंत्री के गृह ज़िला मंडी को जाती सड़क भी साफ़ कहती है कि जनाब कभी हेलिकॉप्टर छोड़ हमारे भी दर्शन कर लो. फिर कुल्लू जाने की बारी आई तो कहा गया कि मुख्य मार्ग छोड़ वाया कटौला जाना. सड़क मंत्रालय भी मुख्य मंत्री के पास है. वादा तो था कि 65 हज़ार करोड़ के राजमार्ग बनाने का, फ़ोरलेन बनाने का. अब सरकार भी क्या करे, कुर्सी बचाए या इन सड़कों को बचाए? दरअसल, हिमाचल में मॉनसून में सड़कों को सबसे अधिक नुकसान पहुंचा है. मंडी जिले में सुंदनगर हाईवे की हालत बेहद दयनीय है. ऐसा लगता है खड्ढों से होकर सड़क गुजर रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here