Yogi Cabinet 2.0: सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अपने पास रखे 34 विभाग, देखें पूरी लिस्‍ट

0
30


लखनऊ. उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के नेतृत्व वाली नई सरकार में मंत्रालयों का बंटवारा हो गया. योगी ने गृह, आवास एवं शहरी नियोजन, नियुक्ति, कार्मिक और राजस्व सहित 34 अहम विभाग अपने पास रखे हैं. इसके अलावा उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को ग्रामीण विकास एवं समग्र ग्राम विकास तथा ग्रामीण अभियंत्रण, खाद्य प्रसंस्करण, मनोरंजन कर एवं सार्वजनिक उद्यम व राष्ट्रीय एकीकरण विभाग सहित छह विभागों का प्रभार सौंपा गया है.

जबकि प्रदेश के दूसरे उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक को चिकित्सा शिक्षा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, परिवार कल्याण तथा मातृ एवं शिशु कल्याण विभाग की जिम्मेदारी दी गई है.

योगी ने अपने पास रखे 34 विभाग
सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अपने पास नियुक्ति, कार्मिक, गृह, सतर्कता, आवास एवं शहरी नियोजन, राजस्‍व, खाद्य सुरक्षा एवं औ‍षधि, प्रशासन, भूतत्‍व एवं खनिकर्म, अर्थ एंव संख्‍या राज्‍य कर एवं निबंधन, गोपन, सूचना, निर्वाचन, संस्‍थागत वित्‍त, नियोजन, राज्‍य संपत्ति, यूपी पुनर्गठन समन्‍वय, अवस्‍थापना, भाषा, अभाव सहायता एवं पुनर्वास, लोक सेभा प्रबंधन, किराया नियंत्रण, प्रोटोकॉल, सैनिक कल्‍याण एवं प्रान्‍तीय रक्षक दल, नागरिक उड्डयन और न्‍याय एवं विधायी विभाग रखे हैं.

सीएम योगी के पास 34 विभागों की जिम्‍मेदारी रहेगी.

कैबिनेट मंत्रियों को मिले ये विभाग
भाजपा के वरिष्ठ नेता सुरेश कुमार खन्ना को वित्त एवं संसदीय कार्यमंत्री विभाग की जिम्मेदारी मिली है. खन्ना यह विभाग योगी के पहले मंत्रिमंडल में भी संभाल रहे थे. जबकि सूर्य प्रताप शाही को कृषि, कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान विभाग दिया गया है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को जल शक्ति तथा बाढ़ नियंत्रण विभाग की कमान सौंपी गई है. वहीं, बेबी रानी मौर्या को महिला कल्याण, बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग तो नंद गोपाल नंदी को औद्योगिक विकास, निर्यात प्रोत्साहन, एनआरआई तथा निवेश प्रोत्साहन विभाग मिला है. इसके अलावा पूर्व आईएएस अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा को नगर विकास, शहरी समग्र विकास, नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन, ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग दिया गया है. जितिन प्रसाद योगी सरकार में लोक निर्माण विभाग की कमान संभालेंगे. योगी के पिछले मंत्रिमंडल में लोक निर्माण विभाग उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के पास था. भाजपा के सहयोगी दल निषाद पार्टी के संजय निषाद को मत्सय विभाग और अपना दल (एस) के नेता आशीष पटेल को प्राविधिक शिक्षा, उपभोक्ता संरक्षण एवं बांट माप विभाग दिया गया है.

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) को मिले ये विभाग
राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) में पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरुण को समाज कल्याण, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण, समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक और इस चुनाव में भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे नितिन अग्रवाल को आबकारी एवं मध्य निषेध, तो पूर्व मंत्री और पत्नी स्वाति सिंह के साथ विवादों में आए दयाशंकर सिंह को परिवहन विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है. पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के पौत्र संदीप सिंह को बेसिक शिक्षा विभाग दिया गया है. राज्य मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने वालों में भाजपा के एक मात्र मुस्लिम चेहरे दानिश आजाद अंसारी को अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ एवं हज विभाग की जिम्मेदारी दी गई है. वहीं, एक मात्र सिख चेहरे बलदेव सिंह औलख को कृषि, कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान विभाग का प्रभार सौंपा गया है.

गौरतलब है कि सात चरणों में संपन्न हुए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 मार्च को घोषित हुए थे. 403 सदस्यों वाली यूपी विधानसभा में इस बार सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के 255 और उसके सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) के 12 तथा निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल (निषाद) के छह सदस्य निर्वाचित हुए हैं. योगी की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश की दूसरी भाजपा सरकार के कुल 52 मंत्रियों ने शुक्रवार को लखनऊ के अटल बिहारी वाजपेयी इकाना स्टेडियम में आयोजित भव्य समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ ली थी. शपथ लेने वाले मंत्रियों में मुख्यमंत्री के साथ-साथ दो उप मुख्यमंत्री, 16 कैबिनेट मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के 14 राज्य मंत्री तथा 20 राज्य मंत्री शामिल थे. संवैधानिक प्रावधानों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री समेत अधिकतम 60 मंत्री हो सकते हैं.

आपके शहर से (लखनऊ)

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश

Tags: Jitin Prasada, Keshav prasad maurya, Yogi adityanath



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here